Essay on Health Education in Hindi

स्वास्थ्य शिक्षा पर निबंध – Essay on Health Education in Hindi

वे सभी बातें जो मानव को स्वास्थ्य संबंधी जानकारी देती हैं, स्वास्थ्य शिक्षा के अंतर्गत आतीं हैं। स्वास्थ्य शिक्षा हमें जीने की काला सिखाती है। स्वास्थ्य शिक्षा हमारी आदतों और व्यवहार में परिवर्तन लाने की एक वह विधि है। जिससे हमें रोगों का ज्ञान होता है, कौन – कौन से नियमों का पालन करना है। जिनके द्वारा हम रोगों से बचाव कर सकें या रोगों से मुक्त हो सकें कौन – कौन सी आदतें व व्यवहार हम अपने जीवन में परिवर्तित करके स्वास्थ्य रह सकते हैं। स्वास्थ्य शिक्षा हमें व्यक्ति, समुदाय और जाती की स्वास्थ्य संबंधी आदतों और दृष्टिकोणो को अच्छा बनाने में सहायक होती है। कोई भी कार्य जो जन साधारण को स्वास्थ्य के विषय में नया सिखये या नई जानकारी दे वह स्वास्थ्य शिक्षा है। सरल शब्दों में हम अगर बात करें तो लोगों को स्वास्थ्य व बीमारियों से संबन्धित जानकारी देना, उनका स्वास्थ्य सुधारने का प्रयत्न करना, रोगों पर किस तरह से नियंत्रण करना है। इस योग्य बनाना स्वास्थ्य शिक्षा का लक्ष्य है

स्वास्थ्य ही धन है। (“Health is wealth”) व्यक्ति हमारे समाज कि इकाई है। यदि व्यक्ति स्वस्थ होगा तो हमारा समाज स्वस्थ होगा और किसी भी देश की प्रगति तभी संभव है, जब उस देश के व्यक्ति स्वस्थ हो।

अरस्तू कि एक कहावत है “एक स्वास्थ्य मस्तिष्क सदैव एक स्वास्थ्य शरीर में निवास करता है।” (“A healthy mind in lives in a healthy body”) स्वस्थ मस्तिष्क और स्वस्थ शरीर दोनों एक दूसरे के पूरक हैं। यदि हमें healthy लाइफ जीनी है, शारीरिक तौर पर फिट रहना है, तो हमें स्वास्थ्य संबंधी आदतों नियमों और व्यवहारों को आत्मसात करना होगा। अगर हमारे अंदर हेल्दी हैबिट्स नहीं हैं, तो हमें उन्हे अपने दिनचर्या में शामिल करना होगा, अच्छे नियमों का पालन करना होगा, ताकि हम पूर्ण रूप से स्वस्थ रह सकें। कुछ परिभाषाओं के आधार पर WHO के अनुसार “health is a state of complete physical mental and social well being and not merely absence of any disease or infirmity.” स्वास्थ्य रोग व निरवलता का अभाव नहीं है, बल्कि शारीरिक मानसिक तथा सामाजिक कल्याण की पूर्ण अवस्था है

J.F. William – स्वास्थ्य जीवन का वह गुण है जो व्यक्ति को अधिक समय तक जीवित रहने तथा सर्वोत्तम प्रकार से सेवा करने के योग्य बनाता है।
उपरयुक्त परिभाषाओं के आधार पर हम कह सकते हैं, यदि हमें स्वस्थ जीवन जीना है, सम्पूर्ण रूप से स्वस्थ रहना है, तो हमें स्वास्थ्य शिक्षा का ज्ञान होंना अति अवश्यक है। अनुसंधान ये कहते हैं, कि हम 50% होने वाली बीमारियों को कम सकते हैं यदि हमें स्वास्थ्य शिक्षा का सम्पूर्ण रूप से ज्ञान हो।

कौन – कौन से संक्रामक रोग हैं, जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलते हैं? यदि हमें उन बीमारियों का ज्ञान हो, कैसे वो बीमारियाँ फैलतीं हैं? तो हम उनसे अपने आप को सुरक्षित रख सकते हैं। हम अपने खान पान के तरीकों में, अपनी आदतों में, अपने व्यवहार में परिवर्तन लाकर अपने रहन सहन में परिवर्तन लाकर अपने आप को पूर्ण रूप से स्वस्थ रख सकते हैं।अतः स्वास्थ्य शिक्षा सभी के लिए अतिमहत्वपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.