हिंदी व्याकरण के प्रश्न और उत्तर – भाग 42 – Hindi Grammar GK Questions and Answers Set 42

व्याकरण भाग-42 के महत्वपूर्ण प्रश्न और उत्तर हिंदी भाषा में सभी प्रतियोगी परीक्षाओ के लिए

Grammar GK in Hindi – Set 42:- निचे व्याकरण जीके अनुभाग–41 के प्रश्न उत्तर अंकित किये गए है यह सभी हिंदी व्याकरण जनरल नॉलेज के प्रश्न उत्तर सभी सरकारी व निजी नौकरी और प्रतियोगी परीक्षाओं में आपके लिए महत्वपूर्ण व् सहायक होंगे. इस खंड में प्रकाशित किए गए व्याकरण के सवाल जबाव की तयारी आप सभी परीक्षाओ व् इंटरव्यू के लिए कर सकते है|

प्रश्न 1. जिस संज्ञा में केवल एक ही व्यक्ति का बोध हो, ________ कहलाती हैं|
क. जाती वाचक संज्ञा
ख. व्यक्ति वाचक संज्ञा
ग. भाव भावक संज्ञा
घ. द्रव्य वाचक संज्ञा

उत्तर देखें
सही उत्तर: व्यक्ति वाचक संज्ञा

प्रश्न 2. स्वर संधि के कितने भेद होते हैं?
क. चार
ख. तीन
ग. पांच
घ. आठ

उत्तर देखें
सही उत्तर: पांच

प्रश्न 3. जिस सामासिक पद का पहला पद प्रधान हो वह कहलाती हैं|
क. द्वन्द समास
ख. अव्ययी भाव समास
ग. तत्पुरुष समास
घ. इनमें से कोई नहीं

उत्तर देखें
सही उत्तर: इनमें से कोई नहीं

प्रश्न 4. विचित्र अथवा आश्चर्यजनक वस्तु या घटना को देखकर ह्रदय में कोतहल तथा आश्चर्य का भाव उत्पन्न होता हैं| उसे कौन सा रस कहते हैं?
क. भीभत्स रस
ख. अद्धुत रस
ग. भयानक रस
घ. इनमें से कोई नहीं

उत्तर देखें
सही उत्तर: अद्धुत रस

प्रश्न 5. ‘अपकृत्य’ में उपसर्ग हैं-
क. उप
ख. आ
ग. अप
घ. अनु

उत्तर देखें
सही उत्तर: अप

प्रश्न 6. निम्नलिखित तत्सम-तद्ध्व में से कौन सा विकल्प अशुद्ध हैं?
क. भगिनी-बहन
ख. भिक्षा-भिखारी
ग. मूल्य-मोल
घ. मानुष-मानुस

उत्तर देखें
सही उत्तर: भिक्षा-भिखारी

प्रश्न 7. इनमें से कौन समूह वाचक प्रत्यय नहीं हैं?
क. लोग
ख. गण
ग. वर्ग
घ. प्रेस

उत्तर देखें
सही उत्तर: प्रेस

प्रश्न 8. ‘च’ वर्ग की ध्वनियों का उच्चारण स्थान हैं?
क. दंत्य
ख. तालव्य
ग. ओष्ठ्य
घ. कंठ्य

उत्तर देखें
सही उत्तर: तालव्य

प्रश्न 9. निम्न में कौन-सा एक युगत विपरीतार्थक नहीं हैं?
क. अनाथ-सनाथ
ख. आदि-अंत
ग. अर्थ-अपूर्ण
घ. अग्रज-अनुज

उत्तर देखें
सही उत्तर: अर्थ-अपूर्ण

प्रश्न 10. निम्न शब्द-युग्म के विकल्पों में कोई एक युग्म सही नहीं हैं, गलत युग्म का चयन कीजिए-
क. क्षात्र-छत्र
ख. सूचि-सूची
ग. भाग्य-दुर्भाग्य
घ. तरंग-तुरंग

उत्तर देखें
सही उत्तर: भाग्य-दुर्भाग्य