Government Schemes

Hindi – Madhya Pradesh Bhulekh Khasra Khatauni Naksha

मध्य प्रदेश के किसानों और अन्य आम नागरिकों को अपने खेत या जमीन संबंधी भूलेख, खसरा, खतौनी, नक्शा वगैरह लेने के लिये सरकारी दफ़्तरों के चक्कर न लगाने पड़ें, इसके लिये सूबे की सरकार ने ये सारी जानकारियां ऑनलाइन कर दी है। अब कोई भी घर बैठे या कहीं से भी इन सभी कागजातों की प्रतिलिपि इंटरनेट के माध्यम से हासिल कर सकता है।

संक्षेप में मध्य प्रदेश सरकार के भूलेख पोर्टल से होने वाले लाभ कुछ इस तरह हैं

1- हम इंटरनेट के माध्यम से इसका कहीं पर भी उपयोग कर सकते हैं। और संबंधित जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं; उसे डाउनलोड कर सकते हैं।

2- अब लोगों को अपनी भूमि से संबंधित खसरा, खतौनी, नक्शा आदि की नकल प्राप्त करने के लिये सरकारी दफ़्तरों में घंटों बैठकर इंतज़ार नहीं करना होगा; यह उन्हें बहुत आसानी से उपलब्ध होगा।

3- इसके अलावा, अगर कभी किसी कागजात की कॉपी गुम हो जाती है तो उसे फिर से आसानी के साथ डाउनलोड किया जा सकता है।

4- सरकार की ‘एमपी भूलेख पोर्टल’ सेवा पर एक लाभ यह भी है, कि यहां आपको हमेशा ‘अपडेटेड’ यानी अद्दतन जानकारियां मिलती हैं।

5- इसका एक फ़ायदा यह भी है कि ऑनलाइन पारदर्शी सेवा होने से यहां भ्रष्टाचार संभव नहीं।

इन सारी ख़ूबियों के अलावा ‘एमपी भूलेख पोर्टल’ सेवा का इस्तेमाल बहुत आसान है। जो किसानों और आम नागरिकों के लिये काफ़ी मुफ़ीद है।

मध्य प्रदेश के राजस्व विभाग ने लोगों की भूमि के भूलेख, खसरा, खतौनी संबंधी दस्तावेज़ों को ऑनलाइन कर दिया है। ताकि न केवल लोगों को ये जानकारियां प्राप्त करने में सहूलियत मिले, बल्कि साथ ही विभाग द्वारा इनका रखरखाव भी व्यवस्थित और क्रमबद्ध हो सके। इस वेबसाइट पर जाकर अपने भूलेख, खसरा, खतौनी, नक्शा आदि की नकल प्राप्त करने के लिये यह तरीका है.

1- सबसे पहले आपको मध्य प्रदेश भूलेख की आधिकारिक वेबसाइट https://mpbhulekh.gov.in/Login.do पर जाना होगा।

2- वेबसाइट का होमपेज खुल जाने पर वहां मुफ़्त सेवायें या ‘फ्री-सर्विसेज़’ के विकल्प पर क्लिक करना होता है।

3- यहां आपको खसरा,बी-1,नक्शा-प्रतिलिपि आदि विकल्प दिखता हैं। इच्छित विकल्प पर क्लिक करते ही आगे का पेज खुल जाता है।

4- इस पेज पर आपसे कुछ जानकारियां मांगी जाती हैं, जैसे– आपका जिला, तहसील, हल्का, गांव, पटवारी। इसके साथ ही भूस्वामी अथवा खसरा संख्या का सही चयन करना होता है।

5- इसके उपरांत स्क्रीन पर नज़र आया “कैप्चा-कोड” भरें, और विवरण देखें या ‘सी डिटेल्स’ पर क्लिक करें।

अब आप खसरा,बी-1 या नक्शा पर क्लिक करके उनकी प्रिंटआउट ले सकते हैं।

मध्य प्रदेश भूलेख,खसरा,खतौनी की जानकारी प्राप्त करने का तरीका

1- सबसे पहले लाभार्थी को “लैंड रिकॉर्ड विभाग” की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना है।

2- इस होमपेज पर आपको एक नक्शा दिखाई देगा। इसमें नज़र आ रहे जिलों में से आपको अपने जिले का  चयन करना है। और इसके बाद खसरा-खतौनी पाने के लिये तहसील का नाम भी दर्ज़ करना होता है।

3-  इसके उपरांत गांव के मंडल राजस्व निरीक्षक और हल्का पटवारी की जानकारी प्राप्त करने के क्रम में तहसील के सामने गांव वाली  सूची में से अपने ग्राम का नाम चुनना होता है।

4- फिर खसरा की जानकारी पाने के लिये उसकी क्रम संख्या पर क्लिक करें।

5-  यहां से आप सभी ज़ुरूरी जानकारियां भरकर खसरा,खतौनी दस्तावेज़ों का प्रिंट-आउट भी ले सकते हैं।

किश्तबंदी नक्शा देखने का तरीका

1- इसके लिये सर्वप्रथम आपको मध्य प्रदेश भू-नक्शा की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना है।

2-  यहां होमपेज पर आपको अपने जिले,तहसील,हल्का,ग्राम आदि से संबंधित कुछ जानकारियां भरनी होती है। इसके साथ ही अपनी जमीन का नं. या प्लाट-नं.भरकर  ‘सबमिट’ पर क्लिक करना होता है।

3- अब आप यहां जमीन के भूस्वामी का नाम, खसरा संख्या, भूमि का प्रकार, क्षेत्रफल आदि सारी जानकारियां देख सकते हैं।

इसी पेज पर आपको खसरा,भू-नक्शा आदि प्रिंट या डाउनलोड करने की सुविधा भी दी गई है।

मध्य प्रदेश भूलेख विभाग के कार्यों से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण संपर्क सूत्र–

1-  टोल फ्री नं. — 18002336737

2- साधारण फोन नं. — 07554000340

3- e-mail — support.gis@begl.org.in

इस तरह स्पष्ट है कि मध्य प्रदेश सरकार द्वारा जमीनी दस्तावेज़ों से संबंधित जानकारियां एक ऑनलाइन पोर्टल पर उपलब्ध कराने की योजना से जहां आम लोगों को काफ़ी सहूलियत मिली, वहीं सरकारी विभागों को भी इन रिकॉर्डों का प्रबंधन करने में बहुत आसानी हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.