Essay on Internet in Hindi

इंटरनेट पर निबंध – Essay on Internet in Hindi

इंटरनेट – इंटरनेट की आज सारी दुनिया गुलाम है। इंटरनेट के प्रादुर्भाव में मानव जीवन में अभूतपूर्व क्रांतिकारी परिवर्तन किए हैं। आज व्यक्ति इंटरनेट के माध्यम से घर बैठे ही सारी दुनिया की जानकारी प्राप्त कर सकता है। इंटरनेट कोनेटवर्कों का जाल भी कहा जाता है। आज इंटरनेट के द्वारा व्यक्ति रोजमर्रा के काम, आवश्यक वस्तुओं की खरीद फरोख्त, व्यापारिक लेन-देन, पढ़ाई, सरकारी काम, ऑफिस वर्क, फिल्म देखना, गाना सुनना,सूचनाएं एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाना सभी कार्य कर रहा है। यदि कभी कबार दुर्भाग्यवश नेट का सर्वर डाउन होता है तो यह सभी काम एकाएक रुक जाते हैं और आम जनजीवन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है।

वर्तमान समय में इंटरनेट अत्यधिक शुगम तथा उपयोगीहै क्योंकि इसका उपयोग शिक्षण संस्थाओं, बैंकिंग संस्थाओं, रेलवे स्टेशन, बस स्टॉप, हवाई अड्डा, प्रशिक्षण संस्थान सभी जगह उपयोग होता है।कई सरकारी तथा प्राइवेट संस्थाओं में कोई भी कार्य करवाने के लिए व्यक्तियों को काफी मशक्कत करनी पड़ती थी तथा जानकारी प्राप्त करने के लिए भी काफी मेहनत करनीपड़तीथी परंतु वर्तमान समय में सरकारी तथा प्राइवेट संस्थाओं के डिजिटलीकरण होने से आज व्यक्ति घर बैठे ही सारे काम तथा सारी जानकारियां प्राप्त कर रहा है, अगर मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति के मद्देनजर देखे तो बिजली का बिल, पानी का बिल, ईएमआई का भुगतान सभी घर बैठे कर रहे है, उन्हें कहीं जाने आने की आवश्यकता नहीं, साथ ही उन्होंने महामारी की संकटकालीन दौड़ में लगाई गई लोक डाउन में जहां लोगों को घर से बाहर निकलने की मनाही थी उस समय इंटरनेट लोगों के लिए अति महत्वपूर्ण साबित हुआ। पूरे कोरोना काल में स्कूल कॉलेज की क्लासेस, परीक्षाएं, सरकारी प्राइवेट संस्थानों का ऑफिस वर्क सब लोगों ने ऑनलाइन तरीके से ही किया तथा मीटिंग्स वर्चुअल तरीके से की गई।

भारत में मोबाइल इंटरनेट अत्यधिक प्रचलित है जिनमें 2G 3G 4G प्रकार के इंटरनेट उपलब्ध है, साथ ही 5G की टेस्टिंगकी जा रही है। यदि वैश्विक स्तर पर देखा जाए अत्याधुनिक तकनीकों के लिए प्रसिद्ध जापान ने 7Gकी टेस्टिंग पूरी कर ली है। मोबाइल इंटरनेट के अलावा कुछ और नेटवर्क भी प्रचिलत है जैसे डिजिटल सब्सक्राइबर लाइन, ब्रॉडबैंड तथा सैटेलाइट, इंटरनेट।
यह सभी इंटरनेट के प्रकार हैं जो अलग अलग तरीके से इंटरनेट के संचालन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

बहुत सारे कम्प्यूटर और नेटवर्को का आपस में जुड़ना इंटरनेट कहलाता है। इंटरनेट से जुड़े प्रत्येक कम्प्यूटर की अपनी एक पहचान होती है। जिसके द्वारा उस कम्प्यूटर को इंटरनेट में पहचाना जाता है। इस पहचान को IP Address कहते हैं। यह एक प्रकार से Computer का Address होता है। लेकिन पहचान का कार्य भी करता है। IP Address Computer को DNS के द्वारा नाम दिया जाता है। जिसे डोमेन नेम कहते हैं। यह डोमेन नाम Computer के IP Address को ही प्रस्तुत करता है।

इंटरनेट मानव जीवन का महत्वपूर्ण अंग बन गया है, शिक्षा के क्षेत्र में, चिकित्सा के क्षेत्र में तथा शोधार्थियों के लिए भी यह अत्यंत उपयोगी है, लेकिन इंटरनेट के कुछ दुष्प्रभाव भी है जैसे लोग इसके सहयोग से साइबर अपराध करते है, लोगो की बैंक डिटेल जानकर तथा उनकी निजी जानकारी जुटा कर उनसे ठगी करते है, जो अत्यधिक चिंताजनक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.