maha-shivratri-in-hindi
Festivals of India

Mahashivratri in Hindi – महाशिवरात्रि का त्योंहार


प्रिय मित्रों, यहाँ पर प्रकाशित किया गया आर्टिकल महाशिवरात्रि के पर्व पर लिखा गया है, इस इस आर्टिकल में आपको महाशिवरात्रि के बारे में बहुत सी जानकारी पढने को मिलेगी जैसे महाशिवरात्रि क्यों मनाते हैं? (Why Do We Celebrate Mahashivratri?), महाशिवरात्रि कैसे मनाते है (How Do We Celebrate Shivratri?), महाशिवरात्रि मानाने की कथाएँ. रिवाज एवं परंपरा, महाशिवरात्रि का महत्व , महाशिवरात्रि का इतिहास (History of Shivratri) आदि.

Mahashivratri in Hindi: History, Significance, How to Celebrate Shivratri in Hindi

महाशिवरात्रि प्रत्येक वर्ष भारत में मनाया जाने वाला हिन्दुओं का मुख्य त्यौहार हैं और यह पर्व भगवान् शिव जी का मुख्य पर्व है. महाशिवरात्रि का पर्व भारत देश में फाल्गुन कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी मनाया जाता है इस पावन दिवस पर शिवभक्त एवं शिव भगवान् में श्रद्धा रखने वाले लोग उनकी आराधना के लिए व्रत-उपवास रखते है.

प्राचीन कथाओ के अनुसार यह पर्व इसलिए मनाया जाता हैं क्यूंकि इसी दिन सम्पूर्ण श्रष्टि का उदय हुआ था और साधू संत का मान्यताओं के अनुसार महाशिवरात्रि भगवान् शिव के विवाह से क्यूंकि क्यूंकि इस दिन शिव भगवान् का विवाह देवि पार्वति जी के साथ हुआ था.

फाल्गुन माह की कृष्ण चतुर्दशी में होने वाली शिवरात्री को बहुत महत्वत दिया जाता हैं इसलिए इसे महाशिवरात्री कहा जाता है. यह सिर्फ भगवान् महादेव अर्थात शिव की पूजा आराधना का पर्व है, इस दिन शिव श्रद्धा रखने वाले लोग शिव पूजा अर्चना उनसे आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए करते है| महाशिव रात्री के दिन शिव मंदिरों में भारी संख्याओं में शिव श्रद्धालु एवं उनके भक्तो की भीड़ शिव दर्शन करने के लिए उमड़ती है और उस दौरान शिव भक्त उनके जय जय कार के नारे लगाते है.

से भी पढ़े: भाई दूज के त्योंहार के बारे में जाने महत्वपूर्ण जानकारी हिंदी में

पवित्र गंगा में डुबकी लगाकर शिव भक्तजन स्नान करते व् भगवान् शिव पूजन के समय उनकी कथाएं जाती हैं व् उनकी स्तुति, भजन गीत गाये जाते है ताकि लोगो को उनके पापो से आजादी (मुक्ति) मिल सके|

शिव पूजा के दौरान उनकी पूजा सम्बंधित पूजन सामग्री वस्तुएं एवं अभिषेक किया जाता है, शिव की पसंदीदा खाद्य सामग्री जैसे बिल्वपत्र, धतूरा, अबीर, दही, शहद, गुलाल, बेर, उम्बी आदि शिव की शिवलिंग पर अर्पित किए जाते है शिवरात्री के पर्व पर अधिक लोग उन्हें खुश करने के लिए भांग/धतुरा भी अर्पित करते है क्यूंकि महादेव को भांग बहुद पसंद थी| पुरे दिन व्रत-उपवास रखने वाले लोग शाम को पूजा आराधना करने के बाद फलाहार कर अपना व्रत खोलते है.

हम आशा करते है की आपको महाशिवरात्रि पर्व के इस आर्टिकल में सही जानकारी प्राप्त हुई होगी यदि कुछ ऐसा जो हमने महाशिवरात्रि त्यौहार के बारे में प्रकाशित नहीं किया तो कृपया हमे कमेंट बॉक्स में जरुर बताएं|