Essay in Hindi

Essay on Mother in Hindi

माँ पर निबंध – Essay on Mother (Maa) in Hindi

माँ हमारा पालन पोषण करने के साथ ही हमारे जीवन में मार्गदर्शक और शिक्षक की भूमिका निभाती है। हम अपने जीवन में जो भी आरंभिक ज्ञान तथा शिक्षाएं पाते हैं, वह हमें हमारी मां के द्वारा ही दी जाती है। यही कारण है, कि मां को प्रथम शिक्षक के रूप में भी जाना जाता है। हमारे आदर्श जीवन के निर्माण मैं हमें हमारी मां द्वारा दी गई शिक्षाएं काफी महत्व रखती है। क्योंकि बचपन से एक मां अपने बच्चे को सदाचार, नेकी तथा हमेशा सत्य के मार्ग पर चलने जैसी महत्वपूर्ण शिक्षाएं देती है। जब भी हम अपने जीवन में अपना रास्ता भटक जाते हैं, तो हमारी मां हमें सदैव सदमार्ग पर लाने का प्रयास करती है। कोई भी मां कभी यह नहीं चाहती है, की उसका बच्चा गलत कार्यों में लिप्त रहे। हमारे प्रारंभिक जीवन में हमें अपनी मां द्वारा कई ऐसी आवश्यक शिक्षाएं दी जाती हैं। जो अजीवन हमारे काम आती हैं। इसलिए एक आदर्श जीवन के निर्माण में मां का बहुत बड़ा योगदान माना जाता है। हम अपने जीवन में कितने ही शिक्षित तथा उपाधि धारक क्यों ना हो जाएं। लेकिन अपने जीवन में जो चीजें हमने अपनी मां से सीखी होती हैं। वह हमें दूसरा कोई और नहीं सिखा सकता है। यही कारण है कि मेरी मां मेरी सबसे अच्छी शिक्षक है, क्योंकि उन्होंने मुझे सिर्फ प्रारंभिक शिक्षा ही नहीं बल्कि मुझे जीवन जीना भी सिखाया है।

इस दुनिया में सबसे आसान और अनमोल शब्द है – मां। माँ दुनिया का एकमात्र ऐसा शब्द है, जिसे किसी परिभाषा की आवश्यकता नहीं, क्योंकि यह शब्द एहसास है। मां प्रेम त्याग और सेवा की मूर्ति है। सचमुच मां ईश्वर का प्रतिरूप है। मेरे जीवन मैं यदि किसी ने मुझ पर सबसे ज्यादा प्रभाव डाला है, तो वह मेरी मां है उसने मेरे जीवन में मुझे कई सारी चीजें दिखाई हैं। जो मेरे पूरे जीवन में मेरे काम आएंगी। मैं इस बात को काफी गर्व के साथ कह सकता हूं, कि मेरी मां मेरी गुरु तथा आदर्श होने के साथ-साथ मेरे जीवन का प्रेरणा स्रोत भी हैं।

हमारे जीवन में प्रेरणा का महत्वपूर्ण स्थान है। प्रेरणा एक तरह की अनुभूति है, जो हमें किसी चुनौती या फिर कार्य को सफलतापूर्वक प्राप्त करने में हमारी सहायता करती है। यह एक प्रकार की प्रवृत्ति है, जो हमारे शारीरिक तथा सामाजिक विकास में हमारी सहायता करता है। किसी व्यक्ति तथा घटना से प्राप्त प्रेरणा हमें इस बात का एहसास कराती है, कि हम विकट परिस्थितियों में भी किसी लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। हम अपनी क्षमता के विकास के लिए अन्य स्रोतों से प्रेरणा प्राप्त करते हैं। जिसमें मुख्यतः विख्यात व्यक्ति या फिर हमारे आसपास का विशेष व्यक्ति हमें इस बात के लिए प्रेरित करता है, कि यदि उसके द्वारा विकट परिस्थितियों में भी लक्ष्य प्राप्त किया जा सकता है। तो हमारे द्वारा भी यह कार्य अवश्य ही किया जा सकता है। कई लोगों के जीवन में पौराणिक या ऐतिहासिक व्यक्ति उनके प्रेरणा स्रोत होते हैं, तो कई लोगों के जीवन में प्रसिद्ध व्यक्ति या फिर उनके माता-पिता उनके प्रेरणा स्रोत होते है। मायने यह नहीं रखता कि आपका प्रेरणा स्रोत कौन है मायने यह रखता है कि आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में, उसके विचारों और तरीकों से कितने ज्यादा प्रभावित है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.