प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (Pradhan Mantri Kaushal Vikas Yojana – Skill India) क्या है इसके उद्देश्य, विशेषताएं और कैसे जुड़े

देश के उज्जवल भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए और बेरोजगारी की समस्या को देखते हुए प्रधान मंत्री जी ने, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना यह New National Skill Development and Entrepreneurship Policy 2015 राष्ट्रीय कौशल विकास योजना के तहत इस योजना को लाया गया हैं | जिसका लक्ष्य भारतीय नागरिको को उनके दिलचस्पी के मुताबिक कार्यो का प्रशिक्षण देना है | इस योजना को सफल बनाने हेतु भारत सरकार ने एक नए मंत्रालय कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय (Ministry of Skill Development & Entrepreneurship (MSDE) की रचना की है | वर्तमान में यह योजना MSDE के ही नियंत्रण में कार्यरत है |

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना का उद्देश्य

1. राष्ट्रीय कौशल विकास का मुख्य उद्देश्य देश में सभी युवा वर्ग को संगठित करके उनके कौशल को निखार कर उनकी योग्यतानुसार रोजगार से देना रहेगा |
इस योजना के पहले वर्ष में 24 लाख वर्कर्स को शामिल किया जाएगा इसके बाद वर्ष 2022 तक यह संख्या 40.2 करोड़ ले जाने की योजना हैं |
2. राष्ट्रीय कौशल विकास के लिए लोग अधिक से अधिक संख्या में जुड़ सके इसके लिए उन्हें लोन की सुविधा प्रदान की जाएगी जिससे वो इस दिशा में कार्य करने में सक्षम हो सकें
3. प्रधानमंत्री जी ने कहा कि देश की जनसंख्या में 65 % युवा हैं जिनकी उम्र 35 से कम हैं यदि इन्हें समय पर रोजगार दिया जाए तो आसानी से देश उन्नति की ओर बढ़ सकता है |

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना की विशेषताएं

1. प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना में केंद्र द्वारा संचालित अभियानों, योजनाओ जैसे Make In India, नेशनल सोलर मिशन, स्वच्छ भारत, डिजिटल इंडिया इत्यादि को ध्यान में रखकर ही व्यक्तियों को प्रशिक्षित किया जायेगा |
2. इस योजना के तहत प्रशिक्षण उद्योग जगत से जुडी राष्ट्रीय निकायों के मानको के आधार पर दिया जायेगा | प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत यदि कोई तीसरा पक्ष अर्थात प्रशिक्षण देने वाली संस्था इत्यादि सरकार के कौशल विकास अभियान से जुड़ेगी, तो उसका मूल्यांकन अंतराष्ट्रीय मानको के आधार पर किया जायेगा |
3. जिससे प्रशिक्षण लेने वालो को उच्च Industry Driven प्रशिक्षण मिल सके |
4. इस योजना के अंतर्गत ऐसे लोग जो काम तो जानते हैं लेकिन उसका प्रमाण पत्र न होने की वजह से उस काम की उनके पास मान्यता प्राप्त नहीं है, इसलिए वे अनौपचारिक कामो में लग जाते हैं | वे भी अपने हुनर को बढ़ा कर उसका प्रमाणपत्र हासिल कर सकते हैं|
5. प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत प्रशिक्षण पूरा करने के बाद दिया जाने वाला पैसो का इनाम अलग अलग प्रशिक्षार्थी पर अलग अलग देय होगा | ज्यादा इनाम निर्माण, कंस्ट्रक्शन, Plumbing के क्षेत्र में प्रशिक्षण लेने वाले प्रशिक्षार्थी को दिए जाने की संभावना है |
6. इस योजना के अंतर्गत विशेष तौर पर 10th, 12th के बाद स्कूल छोड़ने वाले | और पूर्वोत्तर एवं जम्मू कश्मीर राज्यों के नौजवानो पर विशेष ध्यान दिया जायेगा | क्योकि बेरोजगार युवा गलत व्यक्तियों की संगत में जल्दी आ जाते है |

प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना से कैसे जुड़े

1. सरकार ने कई टेलिकॉम कंपनी को इस कार्य में अपने साथ रखा है |
2. इसके साथ ही SMS में एक ट्रोल नंबर दिया जायेगा जिस पर कैंडिडेट को मिस कॉल देना होगा |
3. इसके बाद कैंडिडेट को अपनी जानकारी दिए गये निर्देशानुसार भेजनी होगी | यह जानकारी सिस्टम में सेव कर ली जाएगी |
4. यह टेलिकॉम कंपनी SMS द्वारा इस योजना को सभी लोगो तक पहुँचाने का कार्य करती है |
5. मिस कॉल के तुरंत बाद आपको ऑटो मेटीकली एक नंबर से कॉल बेक आएगा जिसके जरिये आप IVR सुविधा से जुड़ जायेंगे |

संछिप्त में जाने 

कौशल भारत 15 जुलाई 2015 को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने शुरू किया था।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य 2022 तक भारत में 40 करोड़ लोगों को विभिन्न कौशल में प्रशिक्षण देना है।

नए कार्यक्रम का उद्देश्य हमारे देश के 500 मिलियन युवाओं को प्रशिक्षण और कौशल विकास प्रदान करना है।

यह योजना भारत के युवाओं को एक तरह से कौशल पर जोर देती है जिससे वे रोजगार लेते हैं और उद्यमिता में भी सुधार करते हैं।

इस योजना का लाभ यह है कि यह भारत के युवाओं के बीच आत्मविश्वास और उत्पादकता को बेहतर बनाता है।

आधिकारिक वेबसाइट: http://skillindia.gov.in

Error: View 7592b41opq may not exist