स्वच्छ भारत अभियान (Swachh Bharat Abhiyan) क्या है| इस अभियान की जरुरत और अन्य जानकारी

स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार द्वारा आरम्भ किया गया राष्ट्रीय स्तर का अभियान है जिसका उद्देश्य गलियों, सड़कों तथा अधोसंरचना को साफ-सुथरा करना है। यह अभियान महात्मा गाँधी के जन्मदिवस 02 अक्टूबर 2014 को आरम्भ किया गया।महात्मा गांधी ने अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने संबंधी शिक्षा प्रदान कर राष्ट्र को एक उत्कृष्ट संदेश दिया था।

स्वच्छ भारत अभियान की जरुरत

भारत की सामाजिक स्थिति को बढ़ावा देने के लिये है जो हर तरफ स्वच्छता लाने से शुरु किया जा सकता है। यहाँ नीचे कुछ बिंदु उल्लिखित किये जा रहे है जो स्वच्छ भारत अभियान की आवश्यकता को दिखाते है।
1. ये बेहद जरुरी है कि भारत के हर घर में शौचालय हो साथ ही खुले में शौच की प्रवृति को भी खत्म करने की आवश्यकता है।
2. हाथ के द्वारा की जाने वाली साफ-सफाई की व्यवस्था का जड़ से खात्मा जरुरी है।
3. खुद के स्वास्थ्य के प्रति भारत के लोगों की सोच और स्वाभाव में परिवर्तन लाना और स्वास्थ्यकर साफ-सफाई की प्रक्रियों का पालन करना।
4. इसमें काम करने वाले लोगों को स्थानीय स्तर पर कचरे के निष्पादन का नियंत्रण करना, खाका तैयार करने के लिये मदद करना।
5. भारत को स्वच्छ और हरियाली युक्त बनाना।
6. स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रमों के माध्यम से समुदायों और पंचायती राज संस्थानों को निरंतर साफ-सफाई के प्रति जागरुक करना।
7. अस्वास्थ्यकर शौचालय को पानी से बहाने वाले शौचालयों से बदलने की आवश्यकता है।
8. नगर निगम के कचरे का पुनर्चक्रण और दुबारा इस्तेमाल, सुरक्षित समापन, वैज्ञानिक तरीके से मल प्रबंधन को लागू करना।
9. ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों में वैश्विक जागरुकता का निर्माण करने के लिये और सामान्य लोगों को स्वास्थ्य से जोड़ने के लिये।
10. पूरे भारत में साफ-सफाई की सुविधा को विकसित करने के लिये निजी क्षेत्रों की हिस्सेदारी बढ़ाना।

शहरी क्षेत्रों में स्वच्छ भारत अभियान

शहरी क्षेत्रों में स्वच्छ भारत मिशन का लक्ष्य हर नगर में ठोस कचरा प्रबंधन सहित लगभग सभी 1.04 करोड़ घरों को 2.6 लाख सार्वजनिक शौचालय, 2.5 लाख सामुदायिक शौचालय उपलब्ध कराना है। सामुदायिक शौचालय के निर्माण की योजना रिहायशी इलाकों में की गई है
1. खुले में शौच की प्रवृति को जड़ से हटाना
2. लोगों की सोच में परिवर्तन लाना और ठोस कचरा प्रबंधन करना।
3. खुले हाथों से साफ-सफाई की प्रवृति को हटाना
4. अस्वाथ्यकर शौचालय को पानी से बहाने वाले शौचालयों में परिवर्तन

ग्रामीण स्वच्छ भारत मिशन

1. ग्रामीण क्षेत्रों मे रह रहे लोगों के जीवन स्तर में सुधार लाना।
2. जरुरी साफ-सफाई की सुविधाओं को निरंतर उपलब्ध कराने के लिये पंचायती राज संस्थान, समुदाय आदि को प्रेरित करते रहना चाहिये।
3. ग्रामीण क्षेत्रों में निरंतर साफ-सफाई और पारिस्थितिक सुरक्षा को प्रोत्साहित करना।
4. ग्रामीण क्षेत्रों में ठोस और द्रव कचरा प्रबंधन पर खासतौर से ध्यान देना तथा उन्नत पर्यावरणीय साफ-सफाई व्यवस्था का विकास करना जो समुदायों द्वारा प्रबंधनीय हो।

स्वच्छ भारत-स्वच्छ विद्यालय अभियान

ये अभियान केन्द्रिय मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा चलाया गया और इसका उद्देश्य भी स्कूलों में स्वच्छता लाना है। इस कार्यक्रम के तहत 25 सितंबर 2014 से 31 अक्टूबर 2014 तक केंद्रिय विद्यालय और नवोदय विद्यालय संगठन जहाँ कई सारे स्वच्छता क्रिया-कलाप आयोजित किये गए

संछिप्त में जाने!

स्वच्छ भारत अभियान 2 अक्टूबर 2014 को प्रधान मंत्री द्वारा शुरू किया गया था।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य 201 9 में अपनी 150 वीं जयंती से महात्मा गांधी के स्वच्छ और स्वच्छ भारत का सपना पूरा करना है।

इस योजना का नारा है: एक कदम स्वच्छ की ओर।

स्वच्छ भारत मिशन को क्रमशः शहरी विकास मंत्रालय (एमओयूडी) और शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय (एम / ओ डीडब्ल्यूएस) द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है।

2016 में स्वच्छ भारत सर्वेक्षण की समग्र सूची सिंधुदुर्ग जिले में सबसे ऊपर है।

स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत, देश में 100 प्रतिष्ठित विरासत, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक स्थानों पर केंद्रित एक विशेष स्वच्छ पहल करने का निर्णय लिया गया है।

निर्मल भारत अभियान का नाम बदलकर स्वच्छ भारत अभियान कर दिया गया है।

आधिकारिक वेबसाइट: http://swachhbharat.mygov.in

Error: View 7592b41opq may not exist