5 सितम्बर को शिक्षक दिवस और डॉ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर उनके कुछ अनमोल वचन – Teachers Day Quotes by Sarvepalli Radhakrishnan


5 सितम्बर को शिक्षक दिवस और डॉ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन पर उनके कुछ अनमोल वचन – Teachers Day Quotes by Sarvepalli Radhakrishnan

हमारे देश के राष्ट्रपति डॉ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन (5 सितम्बर) को प्रतिवर्ष ‘शिक्षक दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। इस दिन पुरे देश में भारत सरकार द्वारा श्रेष्ठ शिक्षकों को पुरस्कार दिया जाता है.

जन्म – 5 सितम्बर 1888
निधन – 17 अप्रैल 1975
भारत के प्रथम उप-राष्ट्रपति – 1952
भारत के दूसरे राष्ट्रपति – 1962
भारत रत्न से सम्मानित – 1954

1. प्रत्येक व्यक्ति पर निश्चित रूप से शिक्षा का प्रभाव पड़ता है और व्यक्ति पर शैक्षिक संस्थान की गुणवत्ता भी अपना प्रभाव छोड़ती है.
2. जीवन बहुत ही छोटा है लेकिन इसमें खुशियाँ बहुत हैं. इस वजह से व्यक्ति को सुख-दुख में समभाव से रहना चाहिये.
3. मृत्यु एक अटल सच्चाई है जो अमीर ग़रीब सभी को अपना ग्रास बनाती है और किसी प्रकार का वर्ग भेद नहीं करती.
4. जो आपके अन्दर के अज्ञान को समाप्त कर सकता है वही सच्चा ज्ञान होता है.
5. तालियों की उन गड़गड़ाहटों से एक शान्त मस्तिष्क बेहतर जो संसदों और दरबारों में सुनायी देती हैं.
6. जीवन में आलोचनाएँ परिशुद्धि का कार्य करती हैं.
7. सभी माता अपने बच्चों में उच्च संस्कार देखना चाहती हैं इसी वजह से वे अपने बच्चों को ईश्वर पर विश्वास रखने, पाप से दूर रहने और मुसीबत में फँसे लोगों की मदद करने का शिक्षा देती हैं.
8. भारतीय संस्कृति में सभी धर्मों का आदर करना सिखाया गया है और सभी धर्मों के लिये समता का भाव भी हिन्दू संस्कृति की विशिष्ट पहचान है .
9. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का मानना था कि शिक्षा के द्वारा ही मानव मस्तिष्क का सदुपयोग किया जा सकता है.
10. मानव इतिहास का संपूर्ण लक्ष्य मानव जाति की मुक्ति तभी सम्भव है जब देशों की नीतियों का आधार पूरे विश्व में शान्ति की स्थापना का प्रयत्न हो.
11. पुस्तकें वो साधन होती है जिसके द्वारा हम विभिन्न संस्कृतियों के बीच पुल का निर्माण कर सकते हैं.
12. जीवन का सबसे बड़ा उपहार एक उच्च जीवन का सपना है.