Essay on Women Empowerment in Hindi

महिला सशक्तिकरण पर निबंध – Essay on Women Empowerment (Mahila Sashaktikaran) in Hindi

महिला सशक्तिकरण को इस प्रकार परिभाषित किया जा सकता है, कि इससे महिलाओं में उस शक्ति का प्रवाह होता है, जिससे वो अपने जीवन से जुड़े हर फैसले स्वयं ले सकती हैं। समाज में उनके वास्तविक अधिकार को प्राप्त करने के लिए उन्हें सक्षम बनाना ही महिला सशक्तिकरण है।
आज के आधुनिक यूग में महिला सशक्तिकरण एक विशेष चर्चा का विषय है। हमारे आदि ग्रन्थों में नारी के महत्व को यहाँ तक बताया गया कि ‘यत्र नार्यन्तु पूज्यन्ते ,रमन्ते तत्र देवता’ अर्थात जहां नारी की पुजा होती है ,वहाँ देवता निवास करते हैं। हमारे वेदों मेन भी नारी को शक्ति का अवतार माना गया है। महिला सशक्तिकरण का अर्थ महिलाओं की सामाजिक और आर्थिक स्थिति में सुधार लाना है ,ताकि उन्हें रोजगार, शिक्षा, आर्थिक विकास में बराबरी के अवसर मिल सके। जिससे वह सामाजिक स्वतंत्रता तथा तरक्की प्राप्त कर सकें। यह वह तरीका है जिसके द्वारा महिलाएं भी पुरुषों की तरह अपनी हर आकांक्षाओं को पूरा कर सकें। भारत में महिला सशक्तिकरण की आवश्यकता इसलिए पड़ी, क्योंकि प्राचीन समय से भारत में लैंगिक असमानता थी और पुरुष प्रधान समाज का प्राचीन भारतीय समाज दूसरे भेदभाव पूर्ण दस्तूरों के साथ सती प्रथा, नगरवधू, व्यवस्था, दहेज प्रथा, यौन हिंसा, बाल मजदूरी, बाल विवाह आदि परंपरा थी। इनमें से कई सारी प्रथाएं आज भी समाज में उपस्थित हैं। भारत सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण के लिए कई सारी सूचनाएं चलाई जा रही हैं। महिला एवं बाल विकास कल्याण मंत्रालय तथा भारत सरकार द्वारा भारतीय महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना, महिला हेल्पलाइन, उज्जवला योजना, महिला शक्ति केंद्र जैसी योजनाएं चलाई जा रही हैं।

जिस तरह से भारत सबसे तेज आर्थिक विकास प्राप्त करने वाले देशों में शामिल हुआ है। उसे देखते हुए निकट भविष्य में भारत को महिला सशक्तिकरण के लक्ष्य को प्राप्त करने पर भी ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है। हमें महिला सशक्तिकरण के इस कार्य को समझने की आवश्यकता है। क्योंकि इसी के द्वारा देश में लैंगिक समानता और आर्थिक विकास को प्राप्त किया जा सकता है। भारतीय समाज में वास्तव में महिला सशक्तिकरण लाने के लिए महिलाओं के खिलाफ बुरी मकानों को समझना और उन्हें हटाना होगा। जोकि पितृसत्तात्मक और पुरुष प्रधान युक्त व्यवस्था है। जरूरत है कि हम संवैधानिक और कानूनी प्रावधानों को भी बदलने का प्रयास करें।

महिलाएं हमारे समाज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। यदि हम अपने देश को विश्व स्तर पर सर्वश्रेष्ठ सिद्ध करना चाहते हैं, तो महिला सशक्तिकरण अति आवश्यक है। आज के युग में महिलाएं हर एक क्षेत्र में अपने कौशल और अनुभव से पुरुषों को भी आगे छोड़ रहीं हैं। महिलाओं को अब भारतीय सेना में भी शामिल किया जाता है, क्योंकि महिलाओं ने बहुत पहले भी अपने साहस और शौर्य का परिचय दिया है। जैसे महारानी लक्षमीबाइ, बेगम हजरत, एनिवेसेंट जैसी कई वीरांगनाओं ने अपनी मात्राभूमि के लिए खुद को न्यौछाबर कर दिया। सावित्रीबाई, ज्योतिरवफुले, कल्पना चावला, सानिया मिर्जा जैसी कई महिलाओं ने वह कार्य कर जो इस पुरुष श्रेष्ठ समाज में किसी ने अपेक्षा नहीं कि थी किन्तु आज भी समाज में कुछ तुच्छ और घिनौनी सोच रखने वालों कि वजह से महिलाएं सुक्षित नहीं हैं इसलिए इनके लिए कड़े कानून बनाना और इस प्रकार कि सोच को बदलना अतिआवश्यक है तभी सही मायने में महिला सशक्तिकरण हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.