National Girl Child Day India – राष्ट्रीय बालिका दिवस

राष्ट्रीय बालिका दिवस प्रत्येक वर्ष 24 जनवरी को मनाया जाता हैं और इसकी शुरुआत वर्ष 2009 से की गई थी, क्यूंकि इस यानी 24 जनवरी के दिन श्रीमती इंदिरा गांधी जी को नारी शक्ति के रूप में याद किया जाता हैं. भारत की प्रथम प्रधानमन्त्री श्रीमती इंदिरा गांधी जी 24 जनवरी को भारतीय प्रधामंत्री की कुर्सी पर बैठी थी.

राष्ट्रीय बालिका दिवस का उद्देश्य भारत देश में लडकियों, बच्चियों एवं महिलाओं के बारे में सभी प्रकार की भ्रांतियों को दूर करना, जागरूकता फैलना और देश में हो रहे कन्याओं पर अत्याचारों को दूर करना.

देश में हो रहे बालिकाओं के साथ भेद-भाव, भ्रूण हत्या जैसी समस्या को दूर करना जो भारत के कई क्षेत्रो में आज भी फैली हुई हैं. आज भी देश में बेटियों को बेटों की तरह अच्छी शिक्षा, मन पसंद के कपडे और घर से बहार जाने पर रोक रहती है.

देश के कई क्षेत्रो गांवो, कस्बो में आज भी बालिकाओं का बाल विवाह होता है जिसके कारण उन्हें असमानता का शिकार होना पड़ता है.

वर्तमान में यदि लड़कियों की बात करें तो वह हर क्षेत्र में चाहे वे राजनीति हो या फ़ीर भारतीय आर्मी, डॉक्टर, इंजिनियर, पायलेट, पुलिस, नौसेना, वायु सेना, थल सेना, जल सेना खेल जगत , घर हो या उद्योग आदि सभी जगह लडकियां अपना योगदान लड़कों के बराबरी में देती है.

देश की प्रथम महिला जो अंतरिक्ष में गई थी वह भी एक भारतीय बेटी थी जिनका नाम कल्पना चावला हैं, और आज यानी 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस के उपलक्ष्य हमने देश की कुछ बेटियों के बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने देश में अपनी अलग पहचान बनाई है.

  • मैरीकॉम का नाम को आपने सुना ही होगा मैरी कॉम भारत देश की ऐसी महिला है जो मणिपुर में एक बहुत गरीब किसान परिवार से थी. और आज मैरीकॉम भारत देश की मुक्केबाज खिलाडी है जिन्होंने 2012 में हुए ओलंपिक खेल में कास्य पदक जीता था, और साथ ही मैरीकॉम अब तक 5 बार विश्व मुक्केबाजी में फाइनल विजेता रह चुकी है.
  • हरियाणा की मॉडल मानुषी छिल्लर और मिस इंडिया वर्ष 2017 में मिस वर्ल्ड का खिताब जीता इनसे पहले मिस वर्ल्ड का खिताब भारतीय बॉलीवुड जगन की कलाकार प्रियंका चोप्रा ने वर्ष 2000 में अपने नाम किया था.
  • गीता फोगाट भारतीय महिला की कुश्ती पहलवान जी ने वर्ष 2010 के राष्ट्रमंडल खेलों में आस्ट्रेलियाई पहलवान एमिली बेन्स्टेड को हराकर पहला स्वर्ण पदक आपने नाम किया था.
  • भारत की बेटी कही जाने वाली कल्पना चालवा जिन्होंने वर्ष 1998 में अंतरिक्ष में उड़ान भरी और प्रथम भारतीय महिला बनीं.
  • भारतीय महिला टेनिस खिलाडी सानिया मिर्जा ने टेनिस खेल जगत में बहुत से पुरस्कार अवार्ड्स अपने नाम किये.
  • भारत में उड़नपरी के नाम से जानी जाने वाली पी.टी.उषा जी जब दौडती है तो हवा से से बाते करती हैं. इन्होने वर्ष 1985 में एक ही प्रतयोगिता में 5 स्वर्ण पदक जीते जिससे भारत देश की महिलाओं का रोशन हुआ.
  • एक बस कंडक्टर की बेटी साक्षी मालिक वर्ष 2016 में समाप्त हुए रियो ओलंपिक में भारत की तरफ से प्रतिभाग करते भारत देश का नाम रोशन किया था.
  • दीपा कर्मकार जिन्होंने देश को 52 साल बाद 2016 में रियो ओलंपिक खेलों में अपनी जगह बनाकर भारत का नाम रोशन किया.
  • आईसीआईसीआई बैंक के प्रबंध निदेशक (CEO) और देश की एक जानी मानी बिजनेस क्षेत्र की चंदा कोचर भारत की शान है.

बालिका दिवस का नारा
बेटी कुदरत का उपहार
नहीं करो उसका तिरस्कार
जो बेटी को दे पहचान
माता-पिता वही महान

Leave a Reply

Your email address will not be published.