GkSection – जीकेभाग

gksection-latestgk Gk Section एक ऑनलाइन किताब है जिसके माध्यम से आप अपनी आगामी परीक्षाओं एवं इम्तिहानों की तैयारी मुफ्त में कर सकते हैं. GK Section पोर्टल में आप करंट अफेयर्स, भारत एवं विश्व सामान्य ज्ञान, परीक्षा सम्बंधित प्रश्न उत्तर , हल किए हुए प्रश्नपत्र, एवं सम्पूर्ण जगत की सामान्य जानकारी का अध्ययन एसएससी, युपीएससी, रेलवे, बैंकिंग एवं अध्यापक जैसी परीक्षाओं के लिए कर सकते हो. यहाँ पर प्रकाशित की जाने वाली जानकारियाँ बिलकुल सही एवं सटीक हैं (GK for Competitive Examination).

परीक्षा अध्यन के लिए महत्वपूर्ण GK अनुभाग हिंदी भाषा में


यदि आप किसी भी सरकारी परीक्षा की तैयारी कर रहे है और अपने अभ्यास के लिए सटीक एवं सही सामग्री खोज रहे है, तो यहाँ हमने बेहद महत्वपूर्ण विषय अंकित किए है, जिसमे आप देश विदेश सम्बंधित सामान्य ज्ञान (GK) जानकारी को प्रश्न एवं उत्तर के आधार पर प्राप्त कर सकते हैं. सभी प्रश्न एवं उत्तर जनरल नॉलेज संबधित एवं हिंदी भाषा में प्रकाशित होंगे.



कुछ पंक्तियाँ आपके जीवन से संबंधित आवश्य पढ़ें|

एक बार असफल हुए व्यक्तियों के लिए.

यूँ न रोया कर तू, यु न रोया कर तू, हार कर एक बाजी अपनी हिम्मत न खोया कर.

गम के आंसू खुशियों में बदलेंगे एक बार तो आस जगा, खिल उठेगा फिर से फूल एक बार फिर से तो राह बना.
बदलगी तेरी भी तक़दीर आत्मविश्वास खुदका तू टूटने न दे, पाएगा एक दिन मंजिल अपने आपको रूठने न दे.

यूँ न रोया कर तू, यु न रोया कर तू, हार कर एक बाजी अपनी हिम्मत न खोया कर.

हैं यहाँ बहुत से सफल व्यक्ति जिन्होंने मंजिले अपनी खुद बनाई, कांटो के पथ पर चलकर राह अपनी खुद सजाई.
मत उलझा कर ऐसे कामो में जिनमें होता व्यर्थ समय, गले लगाकर किताबों को जीवन खुदका बना अभय.

यूँ न रोया कर तू, यु न रोया कर तू, हार कर एक बाजी अपनी हिम्मत न खोया कर.”

-जीके सेक्शन के राइटर द्वारा लिखित:

निराश व्यक्तियों के लिए

गाए जा धून में अपनी, बन बैरागी ठाट के,
हंस कर जीना सिख ले, इस परेशानी भरी छाँव में .

गुजरा कल लौट ना फिर आएगा,
बीते युग को भला कोन बदल पायेगा.

न खोज पिटारा अपनी किस्मत का इन हस्त लिखी रेखाओ में,
आएगा तेरा भी कल जब चलेगा तू कांटो की राहो में.

किसने देखा कल तेरा आज को कर अपना सुनहरा,
बीत जाएँगी घाव भरी रात, जिसमे तेरा स्वप्न भयानक.

फैला उजाला अपने ज्ञान का, बिछा दे प्रकाश की किरणों को.
मत कर कल की जरा भी फ़िक्र भुला के अपने डर को.”

-जीके सेक्शन के राइटर द्वारा लिखित: