IAS and IPS Salary in Month – आईएएस और आईपीएस अधिकारी की सैलरी और अन्य सुविधाएं

IAS, IPS Salary in Hindi Per Month: भारत में सबसे कठिन और अच्छी सरकारी नौकरी आईएएस, आईपीएस अधिकारी की नौकरी मानी जाती है। जिसे पास करना हर किसीके बात नहीं वह व्यक्ति जो परिश्रम और पढने में लगन रखता वह बालक ही आईएएस, आईपीएस अधिकारी के पद पर नियुक्त हो सकता है.

आईएएस, आईपीएस एक सरकारी परीक्षा है जिसके सभी पड़ाव पास करने के बाद उम्मीदवार IAS और IPS अधिकारी बनते है। यह परीक्षा संघ लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित यूपीएससी सिविल सेवा परीक्षा में सर्वोच्च स्थान प्राप्त करने वाले ही आईएएस बनते हैं।

इसके बाद आईपीएस आते हैं। आईएएस (भारतीय प्रशासनिक सेवा) और आईपीएस (भारतीय पुलिस सेवा) दोनों ही देश की सिविल सेवाओं के श्रेष्ठ पद माने जाते हैं, जो उम्मीदवार को प्रतिष्ठा और पुरस्कृत करियर प्रदान करते हैं। आईएएस, आईपीएस अधिकारी को कितनी सैलरी मिलती है यह जानकार शायद आपको हैरानी हो लेकिन इस लेख में हमने बताया है की यदि आप एक आईएएस या आईपीएस बनते हो तो आपको इस कितनी सैलरी (ias salary per month) मिल सकेगी. साथ ही आईएएस और आईपीएस की मासिक तनख्वा के अलावा उन्हें क्या-क्या सुविधाएं दी जाती हैं, इस लेख में विस्तार से सारी जानकारी पढ़ते हैं।

IAS की सैलरी कितनी होती है? – Salary of an IAS

देश में में आईएएस अधिकारियों की तनख्वा 7वें वेतन आयोग (IAS and IPS Salary) की सिफारिशों के आधार पर निर्धारित होती है। जैसे;-

  • वेतन,
  • मूल वेतन,
  • ग्रेड पे,
  • महंगाई भत्ता (डीए),
  • मकान किराया भत्ता (एचआरए),
  • यात्रा भत्ता (टीए), और
  • अन्य भत्तों सहित कई घटकों से बना होता है।

एक IAS आधिकारी की को शुरुआत में 7th पे कमीशन के आधार पर प्रत्येक महीने 56100 रुपये बेसिक सैलरी के रूप में दी जाती है। इसके अलावा उन्हें हर महीने के अंत में TA, DA, HRA, मोबाइल समेत कई अन्य लाभ भी प्रदान किए जाते हैं। कुल मिलाकर, एक आईएएस या आईपीएस अधिकारी को हर महीने करीब 1 लाख रुपये तक का प्रारंभिक वेतन मिलता है।

टीए, डीए, एचआरए IAS आधिकारी की पोस्टिंग पर भी निर्भर करती है, अनुभव, प्रमोशन और रैंक बढ़ने के साथ-साथ IAS आधिकारी की सैलरी भी बड़ाई जाती है। एक IAS अधिकारी जो अपने करियर के शिखर पर पहुंचता है, उन अधिकारीयों का वेतन भी बढ़ जाता है और उनका वेतन लगभग 2,50,000 रुपये प्रति माह हो जाता है।

कितनी होती है IPS की सैलरी? – Salary of IPS?

भारत में IPS अधिकारियों का वेतन (ias salary per month) 7वें वेतन आयोग के अनुसार, उनके रैंक और अनुभव के आधार पर निर्भर किया जाता है। कोई नवनियुक्त आईपीएस अधिकारी का मूल वेतन 56,000 रुपये प्रति माह से शुरू होता है। IPS अधिकारी का वेतन उनके अनुभव को पुरस्कृत करने के लिए बनाया गया है। जैसे-जैसे किसी आईपीएस अधिकारी की रैंक बढ़ती है, उनका मूल वेतन मे भी बढ़ोतरी की जाती है, जो पुलिस महानिदेशक के लिए अधिकतम 2,25,000 हर महीने तक पहुँच जाता है।

रैंक आधार पर आईपीएस वेतन – Rank-wise IPS Salary

एक IPS अधिकारी का मासिक वेतन उन्हें पद के आधार पर तय किया जाता है. नीचे तालिका में किसी आईपीएस की रैंक के आधार पर वेतनमान का अवलोकन प्रदान किया गया है। एक IPS अधिकारी का मासिक वेतन उन्हें पद के आधार पर तय किया जाता है. नीचे तालिका में किसी आईपीएस की रैंक के आधार पर वेतनमान का अवलोकन प्रदान किया गया है। यह सिर्फ एक नमूना है अधिक जानकारी की है upsc की आधिकारी वेबसाइट पर वर्तमान IPS Salary के बारे में देख सकते हो.

राज्य पुलिस/केन्द्रीय पुलिस बल में आईपीएस रैंकIPS Salary – 7वें वेतन आयोग वेतनमान
पुलिस महानिदेशक/आईबी या सीबीआई के निदेशक₹2,25,000.00 INR
पुलिस महानिदेशक₹2,05,400.00 INR
पुलिस महानिरीक्षक₹1,44,200.00 INR
पुलिस उप महानिरीक्षक₹1,31,100.00 INR
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक₹78,800.00 INR
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक₹67,700.00 INR
पुलिस उप अधीक्षक₹56,100.00 INR

IPS और IAS को क्या-क्या सुविधाएं मिलती हैं?

भारत में IPS और IAS पद अधिकारियों को विभिन्न प्रकार की सुविधाएं मिलती हैं जो उन्हें एक सम्मानजनक और आरामदायक जीवन प्रदान करती हैं। देश में IPS और IAS अधिकारियों को मिलने अनेक तरह की सुविधाएं निम्नलिखित हैं:

वेतन:

  • भारत में IPS और IAS अधिकारियों का वेतन सरकार द्वारा निर्धारित वेतनमान के आधार पर होता है।
  • IPS और IAS का वेतन श्रेणी, अनुभव और पद के आधार पर भिन्न होता है।
  • आईएएस और आईपीएस के वेतन के अलावा, उन्हें महंगाई भत्ता, मकान किराया भत्ता, परिवहन भत्ता, चिकित्सा भत्ता और अन्य भत्ते के रूप में सहायता भी प्रदान किए जाते हैं।

आवास:

अधिकांश राज्यों में, आईएएस और आईपीएस अधिकारियों को देश में सरकारी आवास या आवास भत्ता भी प्रदान किया जाता है। आवास का प्रकार और आकार आईएएस और आईपीएस के पद और स्थान के आधार पर भिन्न होता है।

परिवहन:

देश में IPS और IAS को सरकारी वाहन या वाहन भत्ता भी प्रदान किया जाता है। IPS और IAS का वाहन भत्ता उनके पद और स्थान के आधार पर भिन्न होता है।

चिकित्सा सुविधाएं:

IPS और IAS अधिकारियों एवं उनके परिवारों को सरकारी चिकित्सा सुविधाएं भी मिलती हैं। इसमें सरकारी या निजी अस्पताल में भर्ती, दवाइयां और ओपीडी जैसे उपचार भी शामिल हैं।

अन्य सुविधाएं:

  • शिक्षा भत्ता
  • छुट्टी यात्रा भत्ता
  • सुरक्षा व्यवस्था
  • सेवानिवृत्ति लाभ
  • पेंशन आदि

IAS और IPS की सैलरी कौन निर्धारित करता है?

देश में भारत सरकार के किसी भी मंत्रालय के किसी भी सरकारी विभाग में छोटे से लेकर बड़े पदों के अधिकारियों पर नियुक्त प्रत्येक कर्मचारी को जो भी सैलरी हर महीने प्रदान की जाती है, उसका निर्धारण भारत में पे-कमीशन द्वारा किया जाता है। देश में आईएएस और आईपीएस पद अधिकारियों का कुल वेतन भारत सरकार निर्धारित करता है। वर्तमान में नवीनतम 7वां वेतन आयोग की सिफारिशों के आधार पर वेतन संरचना का पालन करते हैं। वेतन आयोग सरकारी सेवा में कई स्तरों के लिए मूल वेतन को निर्धारित करता है। IAS और IPS पद अधिकारियों को उनके मूल वेतन के अतिरिक्त कई भत्ते दिए जाते हैं, जैसे कि उन्हें मकान किराया भत्ता (एचआरए), यात्रा भत्ता और चिकित्सा भत्ता आदि।

Note: यह जानकारी सटीक होने का हम दावा नही करते “IAS और IPS की सैलरी” की सटीक जानकारी के लिए किसी IAS और IPS अधिकारी से चर्चा करे या फिर upsc की ऑफिसियल वेबसाइट पर संक्षिप्त में पढ़े.

Visit Also: Daily Current Affairs Quiz in Hindi for IAS. IPS Exams

प्रातिक्रिया दे0

Your email address will not be published. Required fields are marked *