Avani Chaturvedi – प्रथम महिला फाइटर पायलट – “अवनि चतुर्वेदी” जी का जीवन परिचय व् सामान्य ज्ञान हिंदी में

Here you will find complete information about “Avani Chaturvedi” First Indian Woman Fighter Jet Pilot in Hindi

Avani Chaturvedi Becomes First Indian Woman To Fly A Fighter Jet – भारत देश की महिलाएं आज के दौर में किसी पुरुष से किसी भी कार्य में पीछे नहीं है, भारत की महिला आज देश के हर क्षेत्र खेल जगत, टेक्नोलॉजी , विज्ञान , शिक्षाबैंकिंग, आईटी आदि सभी में पुरुषो के सामान है |

और हम बता दे की भारत में फिर एक महिला पायलेट अवनि चतुर्वेदी जी द्वारा इतिहास रचा गया है, अवनि चतुर्वेदी अकेले फ़ाइटर प्लेन उड़ाने वाली पहली महिला बनीं है. 19 फरवरी 2018 को भारतीय वायुसेना के मिग-21 फाइटर जेट को अकेले अवनि चतुर्वेदी जी ने खुले आकाश में उड़ाकर प्रथम महिला फाइटर पायलट बनी| इससे पहले भारत के बिहार के बेगूसराय की भावना कांत और गुजरात के वडोदरा की मोहना सिंह, वर्ष 2016 में देश की पहली महिला फाइटर पायलट बन गई थीं.

first-indian-woman-fighter-pilot-avni-chaturvedi-gksection

अवनी चतुर्वेदी जी का जीवन परिचय – Avani Chaturvedi Biography in Hindi

अवनी चतुर्वेदी मध्यप्रदेश के रीवा के रहने वाली है जिनका जन्म 27/10/1993 के दिन हुआ | इनके पिता दिनकर चतुर्वेदी जोकि एक एग्जीक्यूटिव इंजीनियर हैं, अवनी के भाई भी आर्मी में कैप्टन हैं इसके साथ परिवार के और भी सदस्य चाचा सहित आर्मी के जरिए देशसेवा में जुटे हैं|

अवनी चतुर्वेदी बचपन में पंछी की तरह उड़ना चाहती थी, इन्होने राजस्थान के वनस्थली में बीटेक करने के दौरान ही एयरफोर्स का फार्म भरा था. वहीं उनका चयन आईबीएम में भी हो गया था. परन्तु कुछ दिन सर्विस करने के बाद वहां से काम छोड़कर एयरफोर्स ज्वाइन कर लिया. इसके अलवा अवनी चतुर्वेदी को शतरंज, टेबल टेनिस, स्केचिंग और पेंटिंग का भी शौक है. अवनी ने कल्पना चावला को अपनी प्रेरणा स्त्रोत मानते हुए अपने जीवन को आगे बढ़ाया. अवनी ने अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए कहा था,

हर कोई बचपन में आसमां की तरफ देखता है और चाहता है कि पंछी कि तरह उड़े. अब एयरफोर्स में उन्हें मिलिट्री लाइफ के साथ उड़ने का मौका भी मिल रहा हैं.

अवनी चतुर्वेदी जी की शिक्षा – Avani Chaturvedi Education in Hindi

अवनि चतुर्वेदी जी की प्रारंभिक स्कूली शिक्षा दियोलैंड से हुई इन्होने अपनी शुरूआती पढ़ाई हिंदी माध्यम से की थी और इसके बाद अवनि चतुर्वेदी ने 10वीं और 12वीं दोनों ही बोर्ड परीक्षा में अपने स्कूल में टॉप किया था और आगे चलकर वे इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए वो वनस्थली विद्यापीठ चली गईं।

हमे उम्मीद है की आपको इस पोस्ट का अध्यन करके भारत की बेटी “अवनि चतुर्वेदी” के बारे में पूरी व् सटीक सामान्य ज्ञान जानकारी अच्छी तरह से समझ आ गयी होगी, यदि फिर भी कुछ ऐसा जो यहाँ प्रकाशित नहीं किया या कुछ इसमें सुधार करना हो तो कृपया हमे आप ईमेल के जरिये बताये.