Union Budget 2018-19 in Hindi – आम बजट 2018-19 की सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

Here you can find complete details about of Union Budget 2018-19 in Hindi

जैसा की आप सभी जानते है की भारत सरकार द्वारा हर वर्ष केंद्रीय बजट रिलीज़ होता है 2018 में श्री अरुण जेटली द्वारा 1 फ़रवरी 2018 को 2018–2019 का बजट पेश किया गया था. यह बजट जीएसटी लागू होने के बाद ये पहला बजट था | इस बजट में अरुण जेटली जी ने सभी क्षेत्रो पर खास चर्चा की, साथ ही इस बजट में प्रधान मंत्री मोदी द्वारा शुरू की गई योजनाओं जैसे, उज्ज्वला योजना का विस्तार, सौभाग्य योजना व् मुद्रा योजना आदि पर भी चर्चा हुई | चलिए पहले जानते है की बजट क्या है?

बजट क्या है
सरकारी बजट वार्षिक आय तथा व्यय का का एक ऐसा ब्यौरा है जिसमे आने वाले वर्ष में सरकार की अनुमानित प्राप्तियों (आय) तथा (व्यय) का ब्यौरा होता है| और अधिक जाने सरकारी बजट के बारे में सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में .

केन्द्रीय बजट 2018-19 की सम्पूर्ण जानकारी हिंदी में

भारत के वित्तमंत्री अरुण जेटली ने 2018-19 के आम बजट में वक्तिगत आयकर में कोई भी नहीं किए है छुट की सीमा जो पहले की ही तरह 2.5 लाख रुपए रखी है | परन्तु कुछ ऐसे भी बदलाव किए गए है जो लगभग आपकी रोजाना की जीवन लाइफस्टाइल पर असर डाल सकती है देश की बुजुर्ग व्यक्तियों के लिए सरकार ने काफी अहम बदलाव किए है |

बजट में मेडीक्लेम में लगभग 50 हजार रुपए तक की छूट दी गई है और अरुण जेटली ने यह बताया की नौकरीपेशा को टैक्स में कोई छूट नहीं। इसके अलवा इस साल डायरेक्ट टैक्स 12.6 प्रतिशत तक बड़ी है बजट पेश होने के बाद भारत के शेयर बाजारों में भी गिरावट भी हुई थी सेंसेक्स में 250 अंकों तक गिर गया था|

union-budget-2018-19-in-hindi-gksection

आइये जाने आखिर 2018-19 के आम बजट में क्या क्या बदलाव हुए है

  • इनकम टैक्स के दरों में कोई भी बदलाव नहीं होगा।
  • नौकरीपेशा को टैक्स में कोई भी छूट नहीं।
  • बुजुर्ग नागरिकों को 50 हजार तक के ब्याज पर कोई टैक्स नहीं. साथ ही कुछ खास बीमारियों में बुजुर्गों के लिए छूट बढ़ी।
  • मेडीक्लेम पर 50 हजार तक की छूट दी जायगी।
  • बजट में स्टैंडर्ड डिडेक्शन 40,000 रुपए किया।
  • मेडिकल खर्च पर छूट 15 हजार से बढ़ाकर 40 हजार रुपए की गई।
  • कॉर्पोरेट टैक्स में कंपनियों को भारी छूट।
  • एक लाख तक लॉन्ग टर्म कैपिटल पर 10 लाख की छूट।
  • टैक्स देने वालों की संख्या 19.25 लाख बढ़ी, 90 हजार करोड़ ज्यादा कलेक्शन।
  • 250 करोड़ टर्नओवर वाली कंपियों को राहत, देना होगा सिर्फ 25% टैक्स।
  • इस साल डायरेक्ट टैक्स 12.6 प्रतिशत बढ़ा।
  • काले धन के खिलाफ मुहिम से डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन बढ़ा।
  • बजट के लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस भी अब टैक्स नेट में, एक लाख तक लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस पर 10% कर।
  • ईपीएफ में नए कर्मचारियों का 12% सरकार देगी, अब तक 8.33% सरकार देती रही है।
  • 2 बीमा कंपनियों सहित 14 सरकारी कंपनियां शेयर बाजार से जुड़ेंगी।
  • महिलाओं के स्‍वयं सहायता समूहों के ऋण को पिछले वर्ष के मुकाबले 37 प्रतिशत बढ़ाकर वर्ष 2016-17 में लगभग 42,500 करोड़ रुपए किया था। 2019 तक यह ऋण राशि बढ़ाकर 75 हज़ार करोड़ रुपए कर दी जाएगी।
  • वित्‍त मंत्री अरुण जेटली जी ने 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने की सरकार की वचनबद्धता का उल्‍लेख करते हुए अनेक नई योजनाओं और उपायों की घोषणा की।
  • इस बजट में अरुण जेटली ने कहा कि ऑपरेशन फ्लड की तर्ज पर ऑपरेशन ग्रीन्‍स प्रारंभ करने का सरकार का प्रस्‍ताव है। इसके प्रयोजनार्थ 500 करोड़ रुपए की राशि आबंटित की गई।
  • प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना का लक्ष्य मैदानी क्षेत्र में 500 की जनसंख्या तथा पहाड़ी क्षेत्र में रह रही 250 जनसंख्या वाले 1,78,184 निवासियों के लिए सभी मौसमों के दौरान सड़क सम्पर्क मुहैया कराना है।
  • प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना-।।। के रूप में 1,10,000 किलोमीटर का उन्नयन प्रस्तावित है। ऐसा करने के लिए 2022 तक केंद्रीय सरकार से 19,000 करोड़ रूपये के वार्षिक वित्तपोषण की व्यवस्था जारी रखी जाएगी।

बजट 2018-19 में क्या महंगा, क्या सस्ता?
मोबाइल, टीवी उपकरणों पर कस्टम ड्यूटी बढ़ाई- मोबाइल, टीवी महंगे होंगे

रोजगार

  • मुद्रा योजना के लिए तीन लाख करोड़ रुपये
  • नए कर्मचारियों के लिए ईपीएफ में 12 फ़ीसदी योगदान सरकार करेगी
  • महिलाओं के लिए शुरुआती तीन सालों के लिए ईपीएफ़ योगदान घटाकर 8 फ़ीसदी
  • 70 लाख नई नौकरियां बनाने का लक्ष्य
  • टेक्सटाइल सेक्टर के लिए बजट बढ़ाया, 7148 करोड़ रुपये का आवंटन
  • स्वच्छ भारत मिशन के तहत छह करोड़ से अधिक शौचालयों का निर्माण
  • 2018-19 में दो करोड़ नए शौचालय बनाने का लक्ष्य
  • 8 गरोड़ गरीब परिवारों को मुफ्त गैस कनेक्शन
  • ग्रामीण क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे के लिए 14.34 लाख करोड़ रुपये
  • इफ्रांस्ट्रक्चर के लिए 50 लाख करोड़ रुपये की ज़रूरत

स्वास्थ्य

  • नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम के तहत 10 करोड़ गरीब परिवारों को 5 लाख रुपये तक का हेल्थ बीमा.
  • करीब 50 करोड़ सलोगों को हेल्थ बीमा की सुविधा मिलेगी.
  • टीबी मरीजों के लिए 600 करोड़ रुपये की स्कीम
  • 24 नए मेडिकल कॉलेज खोले जाने का प्रस्ताव

शिक्षा बजट 2018-19

सरकार ने आम बजट पर भारत में शिक्षा क्षेत्र पर भी चर्चा की है जो की निम्न है

  • आम बजट में शिक्षा के क्षेत्र में वर्ष 2022 तक खेल और कौशल विकास में प्रशिक्षण प्रदान करने के अलावा 50 प्रतिशत से ज्‍यादा की अनुसूचित जनजाति आबादी वाले प्रत्‍येक ब्‍लॉक में एकलव्‍य मॉडल आवासीय विद्यालय की स्‍थापना की घोषणा की।
  • वित्‍त मंत्री ने कहा कि सरकार सामाजिक-आर्थिक जातीय जनगणना के अनुसार वृ‍द्धों, विधवाओं, बेसहारा बच्‍चों, दिव्‍यांगजनों और वंचित लोगों के प्रत्‍येक परिवार तक पहुंचने के लिए एक व्‍यापक सामाजिक सुरक्षा तथा संरक्षण कार्यक्रम कार्यांवित कर रही है। राष्‍ट्रीय सामाजिक सहायता कार्यक्रम के लिए वर्ष 2018-19 में 9975 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। वर्ष 2022 तक शिक्षा में आधारभूत सुविधाओं और प्रणालियों को पुन: मजबूत बनाने के लिए अगले चार वर्षों में एक लाख करोड़ रुपए के निवेश का प्रावधान किया गया है।
  • प्रधानमंत्री अनुसंधान अध्‍येता पहल के तहत श्रेष्‍ठ संस्‍थानों से हर वर्ष एक हजार उत्‍कृष्‍ट बी.टेक छात्रों की पहचान की जाएगी और उन्‍हें आईआईटी, आईआईएससी में पीएचडी करने के लिए सुविधाएं प्रदान की जाएंगी।

रेल बजट 2018-19

  • रेलवे स्टेशनों पर एस्केलेटर, सीसीटीवी वाईफाई लगेंगे।
  • मुंबई लोकल का दायरा बढ़ाया जाएगा।
  • मुंबई में 90 किलोमीटर पटरी का विस्तार होगा।
  • 600 रेलवे स्टेशनों के अाधुनिकीकरण पर होगा जोर।
  • सुरक्षा वॉर्निंग सिस्टम पर जोर दिया जाएगा।
  • पूरा रेल नेटवर्क ब्रॉड गेज बनाया जाएगा।
  • पटरी, गेज बदलने जैसे काम पर खर्च किए जाएंगे पैसे।
  • 300 किलोमीटर रेल पटरियों का नवीनीकरण होगा।
  • 4000 से ज्यादा मानव क्रॉसिंग बंद किए जाएंगे।
  • माल ढुलाई के लिए 12 वैगन भी बनाए जाएंगे।
  • 3600 नई लाईनें बिछाई जाएंगी।
  • इस साल 700 नए रेल इंजन तैयार किए जाएंगे।
  • देश में अब सिर्फ बड़ी लाइनों पर रेल चलेगी।
  • 5160 नए कोच तैयार किए जाएंगे।
  • 40000 करोड़ रुपये एलिवेटेड कॉरिडोर के निर्माण पर खर्च किए जाएंगे।

हमे उम्मीद है की आपको इस पोस्ट का अध्यन करके भारत के आम बजट 2018-19 के बारे में पूरी व् सटीक सामान्य ज्ञान जानकारी अच्छी तरह से समझ आ गयी होगी, यदि फिर भी कुछ ऐसा जो यहाँ प्रकाशित नहीं किया या कुछ इसमें सुधार करना हो तो कृपया हमे आप ईमेल के जरिये बताये.