प्रधानमंत्री जन औषधि योजना (Pradhan Mantri Jan Aushadhi Yojana) क्या है| इसके लिए आवश्यक दस्तावेज, केंद्र कौन खोल सकता है, अन्य जानकारी

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना भारत के प्रधानमंत्री ‪नरेन्द्र मोदी‬ द्वारा ‬ 1 जुलाई 2015 को घोषित एक योजना है। इस योजना में सरकार द्वारा उच्च गुणमवत्ता वाली जैनरिक (Generic) दवाईयों के दाम बाजार मूल्य से कम किए जा रहें है। सरकार द्वारा ‘जन औषधि स्टोर’ बनाए गए है, जहां जेनरिक दवाईयां उपलब्ध करवाई जा रही है। जेनरिक दवाईयां ब्रांडेड या फार्मा की दवाईयों के मुकाबले सस्ती होती है, जबकि प्रभावशाली उनके बराबर ही होती है। प्रधानमंत्री जन औषधि अभियान मूलत: जनता को जागरूक करने के लिए शुरू किया गया हैं प्रधानमंत्री जन औषधि अभियान मूलत: जनता को जागरूक करने के लिए शुरू किया गया हैं ताकि जनता समझ सके कि ब्रांडेड मेडिसिन की तुलना में जेनेरिक मेडिसिन कम मूल्य पर उपलब्ध हैं साथ ही इसकी क्वालिटी में किसी तरह की कमी नहीं हैं | साथ ही यह जेनेरिक दवायें मार्केट में मौजूद हैं जिन्हें आसानी से प्राप्त किया जा सकता हैं | इस योजना में आम नागरिकों को बाजार से 60 से 70 फीसदी कम कीमत पर दवाइयां मुहैया कराने के उद्देश्य से केंद्र सरकार जल्द ही देशभर में 1000 से ज्यादा जन औषधि केंद्र खोलेगी।

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र कौन खोल सकता है
1. कोई भी व्यक्ति या व्यवसायी, अस्पताल, NGO, चैरिटेबल संस्था, फार्मासिस्ट, डॉक्टर, और मेडिकल प्रैक्टिसनर Jan Aushadhi केंद्र खोलने के लिए आवेदन कर सकते है |
2. SC, ST, एवं दिव्यांग आवेदकों को Jan Aushadhi केंद्र खोलने के लिए 50,000 रूपये तक की दवाइयां अग्रिम रूप से दी जायेंगी|

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज
1. व्यक्तिगत आवेदन करने के लिए आधार कार्ड एवं Pan Card की आवश्यकता होगी |
2. Jan Aushadhi केंद्र खोलने के लिए आपके पास कम से कम 10 वर्ग मीटर की जगह होनी चाहिए | आप चाहे तो किराये पे भी ले सकते है |
3. संस्थान/NGO/हॉस्पिटल/चैरिटेबल संस्था को आवेदन करने के लिए आधार कार्ड, Pan Card, गठन का प्रमाणपत्र एवं पंजीयन प्रमाण पत्र की की आवश्यकता होगी |
4. ऑफलाइन आवेदन करने लिए आप फार्म यहाँ से डाउनलोड कर सकते है

प्रधानमंत्री जन औषधि योजना के के बारे में अन्य जानकारी
1. जेनेरिक दवाओं के प्रति जनता को जागरूक करने का कार्य भी जन औषधि अभियान के तहत होगा |
2. दवाइयों पर प्रिंट कीमत से 16% तक का प्रॉफिट बड़ी से बड़ी एवम घातक बिमारियों के उपचार के लिए जेनेरिक दवाईयाँ उपलब्ध करायेगा साथ ही यह लोगो के बजट में होंगी |
3. जन औषधि स्टोर को 12 महीनों के लिए उसकी sale का 10% अतरिक्त इंसेंटिव दिया जायेगा | अधिकतम 10000 रूपये हर महीने होगा|
4. जन औषधि अभियान के तहत डॉक्टर्स एवम सरकारी अस्पतालों को भी जेनेरिक दवाओं की गुणवत्ता समझाते हुए उन्हें मरीज को यही दवायें पर्चे पर लिख कर देने के लिए बाध्य किया जायेगा |
5. कम कीमत पर दवाई के साथ- साथ गुणवत्ता इस बात की पूरी गेरेंटी जन औषधि अभियान ने लोगो को एवम विक्रेताओं को दी हैं |

संछिप्त में जाने 

प्रधान मंत्री जन आयुध योजना 1 जुलाई 2015 को भारत सरकार द्वारा शुरू की गई थी।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश भर में सस्ती कीमत पर दवाइयां प्रदान करना है।

इस योजना का उद्देश्य किफायती लागत पर दवाइयों को उपलब्ध कराने के लिए 3000 केंद्र खोलने का लक्ष्य है।

इस योजना के तहत, सरकार देश के लोगों को बाजार मूल्य से कम कीमत पर 500 दवाइयां बेचने का लक्ष्य रखती है।

केन्द्रीय सरकार ने निजी अस्पतालों, गैर सरकारी संगठनों और अन्य सामाजिक समूहों को जन-औषाधी स्टोर खोलने के लिए 2.5 लाख रुपये की समय-समय पर सहायता प्रदान की है।

आधिकारिक वेबसाइट: http://janaushadhi.gov.in

Error: View 7592b41opq may not exist