बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना (Beti Bachao Beti Padhao Yojana) क्या है इसके उद्देश्य, फायदे, डाक्यूमेंट्स, पंजीकरण कैसे करें और इससे जुड़े संबधित

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ,स्वास्थ्य मंत्रालय और परिवार कल्याण मंत्रालय एवं मानव संसाधन विकास की एक संयुक्त पहल के रूप में समन्वित और अभिसरित प्रयासों के अंतर्गत बालिकाओं को संरक्षण और सशक्त करने के लिए बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की शुरुआत 22 जनवरी 2015 को की गई है और जिसे निम्न लिंगानुपात वाले 100 जिलों में प्रारंभ किया गया है। हमारे माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजनाकी शुरुवात“बेटा बेटी एक सामान” के नारे से शुरू की।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के उद्देश्य

1. बालिकाओं की शिक्षा सुनिश्चित करना
2. बालिकाओं का अस्तित्व और सुरक्षा सुनिश्चित करना
3. पक्षपाती लिंग चुनाव की प्रक्रिया का उन्मूलन

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना से जुड़े संबधित मंत्रालय

1. स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण (Health and family welfare)
2. मानव संसाधन विकास (Human Resource Development)
3. महिला बाल विकास (Women and Child Development)

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के लिए पंजीकरण कैसे करें

1. इस Account का Maturity 21 वर्ष है और Open किये हुए दिन से और लड़की की उम्र 18 वर्ष होने के बाद ही वह उससे से आधी धन राशी निकाल सकते हैं उच्च शिक्षा के लिए।
2. इस स्कीम के अनुसार आपको 10 वर्ष होने पर अपनी बेटी को 10 वर्ष होने पर इस स्कीम के अनुसार Bank Account Open करवाएं।
3. इस BBBP Yojna के अनुसार Account खुलवाने पर सबसे ज्यदा Interest मिलता है Savings पर।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के फायदे

1. कन्या भ्रूण हत्या को रोकने में मदद कर रहा है।
2. लड़कियों को आगे बढ़ने में मदद मिलती है।
3. लड़कियों के विवाह में यह स्कीम वित्तीय सहायता प्रदान करता है।
4. इस योजना से लड़कियों को उच्च शिक्षा के लिए जाने का अवसर प्रदान होता है।
5. इससे लड़कियों को वित्तीय सहायता मिलती है।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के लिए जरूरी डाक्यूमेंट्स

1. उसके माता पिता का पहचान प्रमाण पत्र
2. उसके माता पिता का पता प्रमाण पत्र
3. लड़की का जन्म प्रमाण पत्र

संछिप्त में जाने!

बेटी बचाओ, बेटी पढाओ भारत सरकार की 22 जनवरी 2015 को शुरू की गई अभियान है।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य लड़कियों को बचाने और सशक्त बनाना और लड़कियों के लिए कल्याणकारी सेवाओं के लिए जागरूकता पैदा करना और दक्षता में सुधार करना है।

यह योजना 100 करोड़ रुपये की प्रारंभिक राशि के साथ शुरू की गई थी।

इस योजना के अंतर्गत, सुकन्या समृद्धी अकाउंट बुलाया जाने वाला एक बचत योजना शुरू की गई है।

इस खाते में, लड़की के माता-पिता अपनी बेटियों के लिए पैसा बचा सकते हैं और खाते से वापसी केवल लड़की की अनुमति के लिए लड़की को अनुमति है।

आधिकारिक वेबसाइट: http://wcd.nic.in

Error: View 7592b41opq may not exist