जानिये भारतीय रेलवे में टर्मिनल, जंक्शन और सेंट्रल स्टेशन में क्या अंतर होता है?

भारतीय रेलवे जो की आज एशिया महाद्वीप का सबसे बड़ा रेल नेटवर्क और विश्व का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है जो की भारतीय रेल मंत्रालय के अधीन भारत सरकार द्वारा चलाया जाता है. भारत में रेलवे रनिंग ट्रैक 92,081 किमी फैला जो की 66,687 किमी तक की दूरी तय करता है. आज के समय में भारतीय रेलवे भारत की जीवन रेखा सामना है. आज रोजाना देश के कई राज्य लोगो अपने काम काज के लिए रेलवे के माध्यम से सफ़र करते है. ट्रेन से यात्रा करते समय आपने देखा है कि रास्ते में कई स्टेशनों को टर्मिनल, जंक्शन और सेंट्रल जैसे आगरा जंक्शन, कानपुर सेंट्रल आदि के नाम से जाना जाता है. भारतीय रेलवे को 3 मूल रूप से तीन भागों में विभाजित किया गया है जो की टर्मिनस / टर्मिनल, जंक्शन और सेंट्रल है. तो चलिए जानते है भारतीय रेलवे में टर्मिनल, जंक्शन और सेंट्रल स्टेशन क्या है और इनमे क्या अंतर है.

Difference Between Indian Railway Terminal, Junction, and Central Station in Hindi


1. भारतीय रेलवे टर्मिनस / टर्मिनल
भारतीय रेलवे टर्मिनस / टर्मिनल वह स्थान होता है जहा पर ट्रेन आगे नहीं जाती है मतलब ट्रैक या मार्ग समाप्त होता है. टर्मिनस / टर्मिनल का अर्थ ही वह स्टेशन है जहाँ से ट्रेन आगे नहीं जाती है. क्योंकि ट्रैक की समाप्ति है, जहां प्रत्येक आने वाला ट्रैक स्टॉप-ब्लॉक पर समाप्त होता है और आगे नहीं जाता है. भारत में छत्रपति शिवाजी टर्मिनस / विक्टोरिया टर्मिनस और लोकमान्य तिलक टर्मिनल सबसे बड़े टर्मिनल स्टेशन हैं जबकि


2. भारत रेलवे के सेंट्रल स्टेशन
सेंट्रल स्टेशन का मतलब शहर का सबसे व्यस्त और सबसे महत्वपूर्ण स्टेशन है. जहा पर भीड़ होती है. लेकिन यह सेंट्रल स्टेशन सबसे बड़ा होता है. इसके अन्दर कई रेलवे स्टेशन होते है. यह पर लोग बहुत भी संख्या में आगमन और प्रस्थान करते है. लेकिन बहुत से स्टेशन होने पर किसी शहर में एक केंद्रीय स्टेशन होना भी जरूरी नहीं है. जैसे की भारत की राजधानी दिल्ली में कोई भी सेंट्रल स्टेशन नहीं है. यह सबसे पुराने स्टेशन हो सकते हैं. भारत में कुल 5 सेंट्रल स्टेशन है, चेन्नई सेंट्रल, त्रिवेंद्रम सेंट्रल, मैंगलोर सेंट्रल, मुंबई सेंट्रल और कानपुर सेंट्रल


3. भारत रेलवे में जंक्शन
वह एक रेलवे स्टेशन जिससे से कम से कम 3 रास्त से गुजर रहे है ऐसे रेलवे स्टेशन को जंक्शन कहा जाता है. इन स्टेशनों पर आने वाले ट्रेनों में कम से कम 2 या उससे अधक निवर्तमान रेल लाइनें या पटरी होती है. उदहारण के लिए मथुरा जंक्शन जो की उच्चतम मार्गों के साथ है. और सलेम जंक्शन से 5 मार्ग, जबकि विजयवाड़ा जंक्शन और बरेली जंक्शन से भी 5-5 मार्ग निकालते है.

Leave a Reply0

Your email address will not be published. Required fields are marked *