12 सितम्बर:- United Nations Day for South-South Cooperation – जाने दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस क्यों मनाया जाता है? इतिहास महत्व, Facts

12 सितम्बर:- United Nations Day for South-South Cooperation – जाने दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस क्यों मनाया जाता है? इतिहास महत्व

12 सितम्बर:- United Nations Day for South-South Cooperation - जाने दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस क्यों मनाया जाता है? इतिहास महत्व

हर साल 12 सितंबर को, संयुक्त राष्ट्र द्वारा दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस (International Day for South-South Cooperation) मनाया जाता है। इस United Nations Day for South-South Cooperation – दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस का महत्व विकासशील देशों के बीच सहयोग के प्रति है, और यह संयुक्त राष्ट्र द्वारा किए गए प्रयासों को चर्चा और महत्वपूर्णता देता है। इस United Nations Day for South-South Cooperation – दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस के माध्यम से, हम सभी को विकासशील देशों के साथ एकजुट होकर उनके साथ सहयोग करने की महत्वपूर्ण आवश्यकता को समझने का अवसर मिलता है। यह दिन विशेष रूप से विकासशील दुनिया के साथ मिलकर समृद्धि और सामरिक सहयोग की दिशा में हमारे संकल्प को स्थापित करने का एक मौका प्रदान करता है.

11 सितम्बर:-World First Aid Day – जाने विश्व प्राथमिक चिकित्सा दिवस कब और क्यों मनाया जाता है? उद्देश्य, इतिहास, तथ्य

United Nations Day for South-South Cooperation – दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस क्यों मनाया जाता है?

यह दिन दक्षिण के क्षेत्रों और देशों द्वारा हाल के वर्षों में किए गए आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक विकास को चिन्हित करने के लिए मनाया जाता है। विकासशील देशों में पारस्परिक सहयोग को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त राष्ट्र के प्रयासों को भी उजागर करता है।

United Nations Day for South-South Cooperation History – दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस का इतिहास

  • दक्षिण-दक्षिण सहयोग का आरंभ साल 1949 में संयुक्त राष्ट्र द्वारा किया गया, जब आर्थिक और सामाजिक परिषद ने तकनीकी सहायता कार्यक्रम की स्थापना की।
  • साल 1969 में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) का निर्माण किया गया, जिसका मुख्य उद्देश्य विकासशील देशों के विकास को सहायता करना था।
  • साल 1978 में, ग्लोबल साउथ सम्मेलन ने तकनीकी सहायता को बढ़ावा देने के लिए ब्यूनस आयर्स प्लान ऑफ एक्शन (BAPA) को अपनाया।
  • BAPA को दक्षिण-दक्षिण सहयोग के मुख्य स्तंभों में से एक माना जाता है, और इसका मुख्य उद्देश्य विकासशील देशों के बीच तकनीकी सहायता को प्रमोट करना है।

United Nations Day for South-South Cooperation Significance – दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस का महत्व

  • संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, दक्षिण-दक्षिण सहयोग का महत्व है।
  • इस सहयोग का उद्देश्य दक्षिणी क्षेत्रों और देशों के बीच एकजुटता को प्रमोट करना है।
  • इसके माध्यम से लोगों को राष्ट्रीय और सामूहिक आत्मनिर्भरता की ओर प्रोत्साहित किया जाता है।
  • दक्षिण-दक्षिण सहयोग का लक्ष्य है अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सहमत विकास लक्ष्यों की प्राप्ति करना।
  • यह सहयोग 2030 एजेंडा के सतत विकास के लिए भी महत्वपूर्ण है।

Hindi Diwas Speech – 14 सितंबर हिंदी दिवस पर भाषण; स्पीच आईडिया

United Nations Day for South-South Cooperation Facts – दक्षिण-दक्षिण सहयोग के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस महत्वपूर्ण तथ्य

1978 में, ‘विकासशील देशों के बीच तकनीकी सहयोग’ (TCDC) पर ग्लोबल साउथ का सम्मेलन ब्यूनस आयर्स, आर्जेंटीना में आयोजित किया गया था। इस सम्मेलन का परिणामस्वरूप, विकासशील देशों के बीच तकनीकी सहयोग को बढ़ावा देने और कार्यान्वित करने के लिए दक्षिण-दक्षिण सहयोग के मुख्य स्तंभों में से एक ‘ब्यूनस आयर्स कार्य योजना’ (BAPA) को अपनाया गया था।

Leave a Reply0

Your email address will not be published. Required fields are marked *