Samanya Gyan

What is e-cigarette in Hindi

In this section you will study about what is e-cigarette in hindi, with the help of you will know how e-cigarette works, who develop e-cigarette, how to use e-cigarette in Hindi.

ई-सिगरेट क्या है? (E-cigarette meaning in Hindi)

ई-सिगरेट और वेप इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जिनका उपयोग धुम्रपान के लिए किया जाता है. इसमें तंबाकू के बजाय एयरोसोल क प्रयोग किया जाता है, जिसे वेप जूस और एटोमाइजर के मेल से पैदा किया जाता है. निकोटिनयुक्त या निकोटिनरहित हजारों प्रकार के वेप जूस और ई-सिगरेट बाजार में उपलब्ध है, जिनमें से अधिकांश का आयत चीन से किया जाता है, अच्छी किस्म की ई-सिगरेट में धुंए के प्रवाह को नियंत्रित करने, ई-सिगरेट गर्म करने और दुसरे हिस्सों को बदलने की सुविधा होती है.

ई-सिगरेट के अंदर क्या है? (What is inside the e-cigarette in Hindi)

टैंक-इनमें वेप जूस या तरल पदार्थ भरा होता है, जिसमें निकोटिन हो भी सकता है और नहीं भी. एटोमाइजर भी इससे जुड़ा होता है.

  1. माउथ पीस-इसके जरिए ई-सिगरेट के धुंए को शरीर के अंदर खिंचा जाता है. यह बदला जा सकता है, बाजार में कई आकार और बनावट में उपलब्ध है.
  2. एटोमाइजर-टैंक में भरे तरल पदार्थ को गर्म कर धुँआ पैदा करता है. इसमें धातु की तार रुई के साथ लिपटी होती है और धातु के एक खांचे के भीतर होती है.
  3. बैटरी-इसमें लिथियम-आयाम सैल बैटरी होती है, जिसे माइक्रो यूएसबी से चार्ट किया जा सकता है. बैटरी आउटपुट के लिए एलइडीसूचक और नियंत्रक है.
  4. हवा मार्ग– यहाँ से वायु अंदर इसके कंफिगरेशन को समायोजित किया जा सकता है.

इसे भी पढ़े: UPSC exam previous questions and answers in Hindi

ई-सिगरेट कैसे काम करती है? (How e-cigarette works)

ओन/ऑफ़ बटन दबाने पर बैटरी कॉइल को उर्जा देती है, जिससे वेप जूस में भिगोई गई रुई गर्म होती है. जब कोई व्यक्ति सांस अन्दर खींचता है, तो हवा मार्ग से आपने वाली वायु रुई से होती हुई मुंह तक पहुँचती है. वेप जूस भी भीगी हुई रुई धुआं पैदा करती है.

कुछ अहम् जानकारी ई-सिगरेट के बारे में (Important information about e-cigarette in Hindi)

  • चीन स्थित कांगेर टेक, स्मोक और ईलिफ़ आदि ई-सिगरेट निर्माताओ से हजारों ई-सिगरेट आसानी से भारत में आयात की जाती है.
  • इससे स्वास्थ्य को होने वाला नुक्सान फिलहाल पूरी तरह से सिद्ध नहीं हुआ है. केवल 3-5 साल पुराने प्रणाली होने के कारण इससे सम्बंधित वैज्ञानिक शोधों का आभाव है.
  • ई-सिगरेट का समर्थन करने वाले, इसे सिगरेट के विकल्प के तौर पर देखते है. हालांकि अध्ययन बताते है की ई-सिगरेट की बच्चो में सिगरेट की आदत डालने का कारन बनी है.
  • कई बार इसका सेवन करते समय मुंह में विस्फोट की घटनाएं हुई है.
  • अमरीका के मिशगन और न्यूयॉर्क राज्यों में इस पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है. हालांकि ब्रिटेन ने इसे सुरक्षित माना है.
  • भारत के ई-सिगरेट पर प्रतिबन्ध लगाने के बाद, मार्लबोरो के स्वामित्व वाली जूल और फिलिप मौरिस यहाँ ई-सिगरेट लौंच नहीं कर पाएगी.

Keep Learning:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *