Samanya Gyan

What is NATO know history, members, objective, and works in Hindi

क्या है नाटो? (What is NATO in Hindi?)

उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) NATO in Hindi (North Atlantic Treaty Organization) एक सैन्य गठबंधन है। द्वितीय विश्व युद्ध (1939-45) के बाद अमेरिका की अगुवाई में एक ऐसे संगठन की स्थापना हुई जो यूरोपीय देशों की सुरक्षा कर सके और जो देश इस संगठन के अंतर्गत रहे वह भी हर संकट की घड़ी में अपने सभी साथी देशों की सुरक्षा हेतु तत्पर रहें, क्योंकि द्वितीय विश्व युद्ध के बाद रूस यानी सोवियत संघ यूरोप से अपनी सेनाएं हटाने से इंकार कर रहा था। वहां साम्यवादी शासन प्रणाली की स्थापना का प्रयास कर रहा था। इसका फायदा उठाकर अमेरिका ने साम्यवाद विरोधी नारे लगाए और यूरोपीय देशों को साम्यवादी खतरे से सावधान किया। इसका परिणाम यह हुआ कि यूरोपीय देश एक ऐसे संगठन के निर्माण के लिए तैयार हो गए जो उनकी संकट की घड़ी में सुरक्षा करे। क्योंकि अमेरिका चाहता था कि विश्व के सभी देशों पर सभी महाद्वीपों पर उसकी प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से दखलअंदाजी व शासन रहे और इसी मंसूवे में वह कामयाब हो गया।

नाटो की स्थापना (NATO founded in Hindi)

उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) की स्थापना 4 अप्रैल 1949 को हुई थी। उसका मुख्यालयब्रुसेल्स (बेल्जियम) में स्थित है। यह संगठन एक सामूहिक व्यवस्था है जिसके अंतर्गत सदस्य देश बाहरी आक्रमण की स्थिति में एक दूसरे की सहायता व सुरक्षा के लिए सहमत होंगे।

नाटो के सदस्य देश (NATO member countries in Hindi)

अल्बानिया, बेल्जियम, बुल्गारिया, कनाडा, क्रोएशिया, गढ़वाल चेक गणराज्य, डेनमार्क, एस्टोनिया, फ्रांस, जर्मनी, हंगरी, यूनान, आइसलैंड, लिथुआनिया (हटा दिया), लाटविया, लक्जमबर्ग, नीदरलैंड, नॉर्वे, पोलैंड, पुर्तगाल, रोमानिया, स्लोवाकिया, स्लोवेनिया, स्पेन, तुर्की, यूनाइटेड किंगडम, संयुक्त राज्य अमेरिका।

नाटो के उद्देश्य (NATO’s objectives in Hindi)

नाटो के अंतर्गत लगभग 30 देश / राज्य सम्मिलित हैं। नाटो का मुख्य उद्देश्य किसी भी समय यूरोप पर आक्रमण की स्थिति में अबरोधक या सुरक्षा कवच की भूमिका निर्वाह करना है।

सोवियत संघ के द्वारा पश्चिम यूरोप में अनाधिकृत विस्तार को रोकना तथा युद्ध की स्थिति में जन सामान्य को मानसिक रूप से तैयार करना।

सैन्य तथा आर्थिक विकास के लिए अपनी कार्यप्रणाली अथवा कार्यक्रमों के द्वारा यूरोपीय राष्ट्रों को सुरक्षा प्रदान करना।
यूरोप के देशों को एक सूत्र में संगठित करना तथा जो देश इस संगठन में सदस्य हैं, उनमें आपसी तालमेल बिठाना।

सामाजिक आर्थिक रूप से उनको मजबूत बनाना, युद्ध की स्थिति में सभी को एकजुट करके दुश्मन के ऊपर गहरा आघात करना, साथ ही नाटो का मुख्य उद्देश्य विश्वसनीयता निवारण तथा वास्तविक तनाव शैथिल्य जैसे सिद्धांतों पर अडिग रहते हुए एक सामूहिक रक्षा व्यवस्था, परस्पर संवाद, पारस्परिक सहयोग तथा सैन्य दृष्टि से अत्यधिक महत्वपूर्ण न्याय प्रमाणिक निशस्त्रीकरण समझौते के माध्यम से सकारात्मक संबंधों की दिशा मे कार्य करना तथा अपने सैन्य गठबंधन के भीतर आर्थिक, वैज्ञानिकव सांस्कृतिक सहयोग व सामंजस्य स्थापित करना।

चीन और भारत नाटो के सदस्य नहीं है परंतु चीन नाटो से डरता है क्योंकि उसे लगता है कभी अमेरिका या भारत से उसकी बिगड़ी तो नाटो देश चुप नहीं बैठेंगे। दूसरी बात वर्तमान 2021 में यूक्रेन और रशिया के मध्य चल रहे युद्ध से यह साफ जाहिर है कि यूक्रेन नाटो का सदस्य ना होने के बावजूद भी यूरोपीय देशों ने रूस के खिलाफ यूक्रेन का साथ दिया। ऐसी स्थिति में नाटो भी अपने सभी साथी सदस्य देशों की सुरक्षा के लिए सदैव तत्पर रहता है।

नाटो की उत्पत्ति (Origins of NATO in Hindi)

नाटो एक सैन्य संगठन है। इसकी स्थापना का मुख्य उद्देश्य यूरोपीय देशों को बाहरी आक्रमणों से एक सुरक्षा कवच प्रदान करना है। द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात यूरोप की सुरक्षा एक चिंतनीय विषय थी। विशेषकर उस स्थिति में जब सोवियत संघ पूरे यूरोप में अपना विस्तार कर रहा था। मार्च 1948 में बेल्जियम, फ्रांस, लक्जमबर्ग, नीदरलैंड तथा यूनाइटेड स्टेट के विदेश मंत्रियों ने रूस में  सामूहिक रुप से आर्थिक, सामाजिक, सांस्कृतिक एवं सामूहिक आत्मरक्षा से परिपूर्ण संधि पर हस्ताक्षर किए। साथ ही यह चिंतन भी किया कि अमेरिका के बिना वह रो सेल्स संधि के सदस्य सोवियत संघ यानी रूस की शक्ति का अकेले सामना नहीं कर सकते। इसलिए उन्होंने अमेरिका को भी अपने साथ में लाने का निश्चय किया। इसके उपरांत अप्रैल 1948 में वाशिंगटन डीसी में हुई बैठक में बेल्जियम, कनाडा, डेनमार्क, फ्रांस, आईसलैंड, इटली, लक्जमबर्ग निकाल अमेरिका के अपने संघ की स्थापना के लिए उत्तर अटलांटिक संधि परहस्ताक्षर किए। इसके उपरांत 1949 में नाटो की स्थापना हुई। इसके उपरांत यूनान की 1952 में,जर्मनी 1955 में,स्पेन 1982 में, 1999 में चेक गणराज्य हंगरी और पोलैंड नाटो के सदस्य बने इसके उपरांत बुलगारिया, लाटबिया, एस्तोनिया,लिथुआनिया 2004 में,अल्बानिया,क्रोएशिया 2009 में नाटो के सदस्य हुए नाटो का सबसे आखिरी सदस्य मेसीडोनिया है।

नाटो के प्रमुख कार्य (Main tasks of NATO in Hindi)

नाटो का मुख्य कार्य अपने सदस्य देशों को एक सुरक्षा क्षेत्र प्रदान करना है। उनके आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक उत्थान हेतु सदैव प्रयास करना। उनकी समस्त गतिविधियों पर नजर रखना, क्योंकि इसकी स्थापना ही इसीलिये हुई है कि जब भी युद्ध की स्थिति बने तो सभी साथ मिलकर उसका सामना करें। द्वितीय विश्व युद्ध में देखा गया कि सभी देश आपस में लड़ रहे थे। जिसका परिणाम यह हुआ कि कुछ देश तवाह हुए, हजारों लाखों की तादाद में लोगों की मृत्यु हुई। इसी संकट को भांपते हुए इस संगठन की स्थापना की गई है। जिसके अंतर्गत सभी 30 देश परिवार की तरह रहते हुये युद्ध की स्थिति में एक दूसरे का सहयोग करते हैं तथा आर्थिक व राजनीतिक रूप से भी एक दूसरे की मदद के लिए तैयार है।

Gk Section
Gksection.com यूपीएससी, एसएससी, बैंकिंग, आईबीपीएस, आईएएस, एनटीएसई, सीएलएटी, रेलवे, एनडीए, सीडीएस, न्यायपालिका, यूपीपीएससी, आरपीएससी, जीपीएससी, एमपीएससी के लिए जीके (सामान्य ज्ञान), करंट अफेयर्स और सामान्य अध्ययन के लिए भारत की शीर्ष वेबसाइट में से एक है। यह पोर्टल एमपीपीएससी और भारत के अन्य राज्यों की सिविल सेवा/सरकारी नौकरी भर्ती परीक्षाएं सम्बंधित लेटेस्ट अपडेट प्रकाशित करता है।
https://www.gksection.com/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *