चंद्रयान-3 मिशन के बाद इसरो के अब इन सभी मिशनों पर काम करेगा:- इसरो के मिशनों की सूची

चंद्रयान-3 मिशन के बाद इसरो अब विभिन्न महत्वपूर्ण मिशनों पर काम कर रहा है। इसकी सूची में शामिल हैं सूर्य मिशन, मानव अंतरिक्ष उड़ान मिशन, और अन्य महत्वपूर्ण अंतरिक्ष परियोजनाएं

चंद्रयान-3 मिशन के बाद इसरो के अब इन सभी मिशनों पर काम करेगा:- इसरो के मिशनों की सूची

चंद्रयान-3 मिशन इसरो के लिए महत्वपूर्ण है. हालांकि, इस मिशन के उपरांत भी इसरो के पास कई महत्वपूर्ण मिशन हैं, जिन पर वे काम करेंगे. ये मिशन भविष्य की दिशा में महत्वपूर्ण हैं, जिनके लिए इसरो तैयारी कर रहा है. इन मिशनों के लिए इसरो ने विशेष तैयारी की है, जो नए अध्याय को इतिहास में जोड़ेंगे. इनमें सूरज से लेकर अन्य महत्वपूर्ण मिशन शामिल हैं. इन मिशनों के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को पढ़ें.

जरुर जाने:- चंद्रयान-3 मिशन से जुड़े लोगो के सवाल और जवाब

इसरो का सूर्य का अध्ययन करने का मिशन:-

चंद्रयान-3 मिशन के बाद, इसरो अब सूर्य मिशन की ओर बढ़ रहा है। सितंबर के पहले सप्ताह में शुरू होने वाला है ‘आदित्य-एल1’ नामक यह मिशन, जो सूर्य पर आधारित है। इसरो के अनुसार, आदित्य-एल1 सूर्य-पृथ्वी प्रणाली के लैग्रेंज बिंदु 1 (एल 1) के पास चारों ओर प्रभामंडल कक्षा में रखा जाएगा, जो पृथ्वी से लगभग 1.5 मिलियन किमी दूर है।

एल 1 बिंदु के आसपास स्थित सैटेलाइट को सूर्य को बिना किसी ग्रहण के लगातार देखने का अवसर होता है। इससे हम वास्तविक समय में सूर्य की गतिविधियों और अंतरिक्ष मौसम के प्रभाव को अधिक सुविधाजनक तरीके से अध्ययन कर सकते हैं.

नासा-इसरो अर्थ ऑब्सर्वेशन सैटेलाइट मिशन:-

संयुक्त राज्य अमेरिका और भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो ने मिलकर एक मजबूत आर्थिक ऑब्सर्वेशन सैटेलाइट को स्थापित करने के लिए समझौता किया है, जिसे अगले वर्षों में लॉन्च किया जाने की उम्मीद है। इस सैटेलाइट का नाम NISAR होगा, जिसे NASA और ISRO के साथ मिलकर बनाया गया है। इसकी पूरा नाम NASA-ISRO-Synthetic Aperture Radar है।

NISAR सैटेलाइट पृथ्वी की भूमि और बर्फ की सतहों की गतिविधियों को अत्यंत उच्च सूक्ष्मता से ट्रैक कर सकेगी। इससे जलवायु परिवर्तन, जंगलों की कटाई, ग्लेशियरों के पिघलने, ज्वालामुखी और भूकंप के बारे में जानकारी प्राप्त की जा सकेगी। नासा के अनुसार, यह सैटेलाइट प्रत्येक 12 दिनों में पृथ्वी के एक हिस्से की गहराई की जानकारी प्रदान करेगा।

चंद्रयान-3 मिशन अपडेट:- चांद के दक्षिणी ध्रुव परपहुचने वाला विश्व का पहला देश बना

पहली मानवयुक्त अंतरिक्ष उड़ान मिशन:-

इसरो वर्तमान में भारत के पहले मानव अंतरिक्ष यातायात मिशन के विकास पर काम कर रहा है। हालांकि, यह मिशन पुराना हो गया है, जिसकी योजना 2020 से पहले थी। लेकिन, 2020 में कोविड-19 महामारी के प्रकोप के बाद, इस मिशन में देरी हो गई।

इसरो के आधिकारिक बयान के अनुसार, गगनयान परियोजना में 3 दिनों की मिशन के लिए 3 सदस्यों के चालक दल को 400 किमी की कक्षा में लॉन्च करके और भारतीय समुद्री जल में उतारकर उन्हें सुरक्षित रूप से पृथ्वी पर वापस लाकर मानव अंतरिक्ष यातायात क्षमता का प्रदर्शन करने की परिकल्पना की गई है। इससे पहले, सुरक्षा की दृष्टि से मानव रहति के लिए अंतरिक्ष यातायात भी आयोजित किए जाएंगे.

X-Rays के स्त्रोतों का पता लगाने का मिशन:-

एक्स-रे के स्त्रोतों का पता लगाने का मिशन ब्रह्मांड के बारे में हमारी समझ को बढ़ाने के लिए एक महत्वपूर्ण प्रयास है. एक्स-रे, जो दृश्यमान प्रकाश की तुलना में बहुत अधिक ऊर्जा वाली तरंगें हैं, ब्रह्मांड में कई प्रकार के स्रोतों से उत्पन्न होती हैं, जिनमें तारे, क्वासर, मैक्रोब्लैक होल और नाभिकीय विस्फोट शामिल हैं.

एक्स-रे के स्रोतों का पता लगाने के लिए कई अलग-अलग उपकरणों का उपयोग किया जा सकता है, जिनमें एक्स-रे टेलीस्कोप, एक्स-रे कैमरा और एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर शामिल हैं. इन उपकरणों ने हमें ब्रह्मांड के सबसे दूरस्थ और सबसे ऊर्जावान वस्तुओं को देखने की अनुमति दी है. हाल के वर्षों में, एक्स-रे टेलीस्कोपों की तकनीक में प्रगति हुई है, जिससे अधिक दूरस्थ और कम ऊर्जा वाले एक्स-रे स्रोतों का पता लगाना संभव हुआ है. यह ब्रह्मांड के बारे में हमारी समझ को और आगे बढ़ाने में मदद कर रहा है.

Leave a Comment