हिंदी दिवस पर भाषण – Hindi Diwas Speech: कैसे लिखे हिंदी दिवस का भाषण

आज यानी 14 सितम्बर का यह दिन हिंदी के सम्मान, उसे बढ़ावा देने और लोगो को हिंदी के बारे में जागरूक करने के लिए हिंदी दिवस मनाया जाता है।

hindi diwas speech

Hindi Diwas Speech 2023: देश भर में हर वर्ष 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है। बहुत से शिक्षा संस्थानों यावं सरकारी कार्यालयों में हिंदी दिवस से पहले यानी 1 सितंबर से ही हिन्दी पखवाड़े की शुरुआत हो जाती है। इस दिन देश को एकत्र यानी एकता वाली भाषा हिंदी पर गर्व अभिमान करने का दिन है। आज के समय में हिंदी को पूरी दुनिया में सम्मान मिला हुआ है। हिंदी भाषा अन्य विदेशों में भी भारत को एक अलग पहचान देती है और देश में अनेकों प्रकार की भाषा बोलने वाले हम भारतीयों को एकरुपता के धागे में बुनती है। सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि विश्वभर के कई देशों में हिंदी बोली जाती है और इस हिंदी को प्राथमिकता दी जाती है। अंग्रेजी और मंदारिन भाषा के बाद हिंदी भाषा विश्व की तीसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। आज यानी 14 सितम्बर का यह दिन हिंदी के सम्मान, उसे बढ़ावा देने और लोगो को हिंदी के बारे में जागरूक करने के लिए हिंदी दिवस मनाया जाता है

हिंदी दिवस के दिन निजी एवं सरकारी स्कूल, कॉलेज और कार्यालयों में कई तरह कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। सरकारी एवं निजी दफ्तरों में हिंदी पखवाड़े का आयोजन होता है। स्‍कूलों और कॉलेजों में हिंदी दिवस पर कविता पाठ, निबंध, भाषण, संवाद, वाद-विवाद आदि प्रतियोगितायों का आयोजन भी किया जाता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए यहाँ पर हमें स्कूली छात्रों की सहायता के लिए एक हिंदी में एक भाषण का उदाहरण दे रहे हैं। जिससे स्कुल के छात्र यहां से अपनी स्पीच का विचार प्राप्त कर सकते हैं।

Hindi Diwas Poem

हिंदी दिवस भाषण – Hindi Diwas Speech

आदरणीय मुख्य अतिथि, अध्यापकों, शिक्षकों और मेरे प्रिय साथियों!
आज हिंदी दिवस के मौके पर हम सभी यहाँ पर एकत्रित हुए है। आज भारत की मातृभाषा हिंदी का दिन है। आज हिंदी दिवस है। हर साल 14 सितंबर के दिन देश में हिंदी दिवस (Hindi Diwas) के रूप मनाया जाता है। भारत की स्वतंत्रता मिलने के दो वर्षो के बाद 14 सितबंर 1949 को हिंदी भारत की राजभाषा के रूप में घोषित किया गया था। इसके पश्चात् हिंदी को देश में बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रभाषा प्रचार समिति के कहने पर वर्ष 1953 से पूरे भारत में हार साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाया जाने लगा। भारत के इतिहास में 14 सितंबर 1953 को प्रथम बार देश में हिंदी दिवस मनाया गया था।

देश के हर नागरिक के लिए हिंदी दिवस का बहुत खास महत्व है। भारत विविधताओं से भरा देश है। यहां अलग-अलग तरह के धर्म व जाति के लोग रहते हैं। कई प्रकार की भाषाएं, बोलियां जाती है, अलग-अलग वेश-भूषा, खानपान व संस्कृति के लोग रहते आपस में मिलकर रहते हैं। ये हिंदी भाषा की ही दें है जो देश के सभी वर्ग के व्यक्तियों को एकता के सूत्र में बांधकर रखती है। देश एकता में हिंदी का बहुत बड़ा योगदान है। भारत के राष्‍ट्रपिता महात्‍मा गांधी जी ने हिंदी को जनमानस की भाषा कहा है। हिंदी ने हमें विश्वभर में देश को पहचान दिलाई है।

आज के समय में कई लोग इंग्लिश भाषा को अधिक प्राथमिकता दे रहे है और इसे अपने जीवन के हर हिस्सा में इस्तेमाल कर रहे हैं, परन्तु हिंदी भाषा का अपना महत्व बना हुआ है। जिस प्रकार हमारी मां का स्थान कोई नहीं ले सकता है, उसी प्रकार हमारी मातृभाषा हिंदी का स्थान भी कोई दूसरी भाषा नहीं ले सकती है।

साथियों, देश की आजादी के 77 वर्षो बाद भी देश के स्वतंत्रता सेनानियों की हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की इच्छा अधूरी है। हिंदी भाषा भारत की राजभाषा ही बन पाई है। आज पूरे भारत में हर राज्य में हिंदी बोलने समझने वाले व्यक्ति मौजूद हैं। गैर हिंदी भाषा भारतीय राज्यों में भी लोग सिर्फ कामचलाऊ हिन्दी भाषा जानते हैं। परन्तु कोई बात नहीं यदि यह आधिकारिक तौर पर हिन्दी देश की राष्ट्रभाषा न हो, केवल राजभाषा हो, व्यावाहरिक तौर पर वो भारत की सर्वव्यापी भाषा बनी रहेगी। ऐसे में जरूरत है आज हिन्दी भाषा के बारे में सभी को जागरूक करना ताकि वे लोग हिंदी का महत्व समझ सकें। प्रिय साथियों देश को एकता के सूत्र में बांधे रखने वाली हिंदी सिर्फ एक भाषा ही नहीं बल्कि भावों की अभिव्यक्ति भी है। आइये हम सब मिलकर हिंदी को अधिक से अधिक बोलचाल की भाषा में उपयोग में लाएं।

अंत में मैं अपने भाषण की समाप्ति कुछ लाइनों के साथ करना चाहूंगा-

हिंदी हैं हम
वतन है हिन्दुस्तान हमारा – हमारा।
सारे जहां से अच्छा हिंदुस्तान हमारा।
जय हिन्द, जय भारत।
धन्यवाद।।

शिक्षक दिवस भाषण; इन बातों का रखें ध्यान

राष्ट्रिय हिंदी दिवस भाषण पर 10 पंक्तियाँ – 10 Lines on Hindi diwas speech

1. हिंदी आधुनिक इंडो-आर्यन की भाषाओं के दायरे में आती है।

2. हिंदी के प्राचीन संस्करण हिंदुस्तानी, हिंदवी और खारी-बोली थी जोकि 10वीं शताब्दी ईस्वी में बोली जाती थीं।

3. हिंदी दिवस हिंदी को उसकी उचित पहचान देता है और इसके बारे में जागरूकता फ़ैलाने के लिए मनाया जाता है।

4. हिंदी साहित्य सम्मेलन के समय राष्ट्रभाषा के रूप में हिंदी की सिफारिश करने वाले देश के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी सबसे पहले व्यक्ति थे।

5. विश्वभर में करीबन 80 करोड़ लोग हिंदी भाषा बोलते हैं।

6. हिंदी विश्व की तीसरी सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषा है।

71. भारत के इतिहास में हिंदी दिवस 14 सितंबर 1949 से मनाया जा रहा है।

8. हिंदी दिवस उन व्यक्तियों के लिए त्योहार की तरह है जो हिंदी बोलना पसंद करते हैं

9. हिंदी देवनागरी लिपि पर लिखी गई है, जो हिंदी का वास्तविक रूप धारण करती है जिसे भारत के संविधान ने अपनाया था।

10. हिन्दी का इतिहास करीबन 1000 वर्ष पुराना है।

हिंदी दिवस सामान्य ज्ञान

विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी को मनाया जाता है?

हिंदी दिवस 14 सितंबर को मनाया जाता है?

हिंदी दिवस और विश्व हिंदी दिवस अंतर है

  • हर वर्ष विश्व में 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस विश्वव्यापी भाषा बनाने के मकसद.
  • और 14 सितम्बर राष्ट्रिय हिंदी दिवस – इस दिन देश में हिंदी को राजभाषा घोषित किया गया था.

List of Important Days in September

Leave a Reply0

Your email address will not be published. Required fields are marked *