फ़र्रुख़ सियर प्रथम के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य

फर्रुखसियर मुग़ल वंश के अजीमुश्शान का पुत्र था. उसका पूरा नाम अब्बुल मुजफ्फरुद्दीन मुहम्मद शाह फर्रुखसियर था. वह ‘साहिद-ए-मजलूम’ के नाम से जाना जाता था.

Important facts about of Farrukhsiyar in Hindi

  1. फर्रुखसियर ने अपने पिता अजीमुश्शान की उत्तराधिकार युद्ध में हत्या की सुचना पाते ही पटना (बिहार) में अपने को बादशाह घोषित किया.
  2. फर्रुखसियर सैयद बंधुओ (अब्दुल्ला खां और हुसैन अली खां) के सहयोग से बादशाह बना.
  3. उसने अब्दुल्ला खां को वजीर का पड़ एवं कुतुबुलमुल्क की उपाधि तथा हुसैन अली खां को अमिर-उल-उम्र तथा मीर बख्शी का पद दिया.
  4. सैयद बन्धु (हुसैन अली और उसका भाई अब्दुल्ला) भारतीय इतिहास में राजा बन्नने वाले के नाम से प्रसिद्द थे.
  5. उसने निजाम-उल-मुल्क के नाम से मशहूर चिनकिलिच खां को दक्कन का गवर्नर नियुक्त किया, जिसने बाद में स्वतंत्र राज्य-हैदराबाद की स्थापना की.
  6. उसके समय में ही पेशवा बालाजी विश्वनाथ मराठा-क्षेत्र पर सरदेशमुखी और चौथ बसूली के अधिकार को प्राप्त करने के लिए मुग़ल दरबार में उपस्थित हुए थे.
  7. फर्रुखसियर ने तुसनी गुट (मध्य एशियाई मूल) के एक आमिर चिनकिलिक मुल्क और खां खाना की उपाधि दी.
  8. फर्रुखसियर ने जोड़पुर (मारवाड़) के शासक अजित सिंह की पुत्री से विवाह किया.
  9. फर्रुखसियर ने सैयद बंधुओ के प्रभाव को कम करने के लिए उनके खिलाफ षड्यंत्र रचने शुरू किए.
  10. उसने गुजरात के सूबेदार दाउद खां को सन्देश भेजा की वह हुसैन अली को मार डाले, किन्तु हुसैन अली ने दाउद खां को मार डाला.
  11. फर्रुखसियर के समय में ही 1716 ई. बाँदा बहादुर को दिल्ली में फांसी दे दी गई.
  12. 1717 में सम्राट फर्रुखसियर ने ईस्ट इण्डिया कम्पनी को बंगाल के रास्ते बिना सीमा शुल्क ऐडा किए व्यापार की रियायत प्रदान कर दी.
  13. हुसैन अली मराठा सैनिकों के साथ दिल्ली आ गया सैयद बंधुओं ने महत्वपूर्ण अमीरों को अपने पक्ष में कर फर्रुखसियर को अपदस्थ कर 28 अप्रैल, 1719 ई. को उसका वध कर दिया.
  14. फर्रुखसियर की हत्या के पश्चात सैयद बंधुओ ने मुगलसत्ता पर पूर्ण नियंत्रण कर लिया.
  15. फर्रुखसियर को घृणित कायर भी कहा गया है. फर्रुखसियर ने गद्दी पर बैठते ही जजिया कर को समाप्त कर दिया.
Leave a Reply0

Your email address will not be published. Required fields are marked *